hinditoper.com

hinditoper.com
आंगन का पंछी 3rd year

aangan ka panchi | आंगन का पंछी 3rd year

hinditoper.com द्वारा लिखे आंगन का पंछी – विद्यानिवास मिश्र द्वारा रचित निबंध के इस लेख में आंगन का पंछी निबंध तथा आंगन का पंछी (aangan ka panchi) निबंध के कुछ वस्तुनिष्ठ प्रश्न – उत्तर दिए गए हैं। जो कि निम्न है –

aangan ka panchi – आंगन का पंछी

आंगन का पंछी निबंध

गाँवों में कहा जाता है- जिस घर में गौरेया अपना घोंसला नहीं बनाती वह घर निर्वश से हो जाता है। एक तरह से घर के आँगन में गौरैयों का ढीठ होकर चहचहाना, दाने चुनकर मुंडेरी पर बैठना, हर साँझ, हर सुबह, हर कहीं तिनके बिखेरना और घूम फिर कर फिर रात में घर ही में बस जाना अपनी बढ़ती चाहने वाले गृहस्थ के लिए बच्चों की किलकारी, मीठी शरारत और निर्भय पूर्वमध्यमा प्रथम उच्छलता का प्रतीक है।

फूल तो बहुत से होते हैं, एक से एक चटकीले. एक से एक खुशबूवाले. एक से एक कंटीले, पर बेला, गुलाब, जूही, चमेली, कुमुद, कमल बहुत कम आँगनों में मिलते हैं और अकिचन से अकिचन आँगन में भी तुलसी की वेदी जरूर मिलती है और उस वेदी पर, तुलसी की मंजरी जरूर खिलती है।

जिस तरह गौरेये में कोई रूप-रंग की विशेषता नहीं, कंठ में कोई विशेष प्रकार की विह्वलता नहीं, उड़ान भरने की भी कोई विशेष क्षमता नहीं, महज आँगन में फुदकने का उछाह है; उसी प्रकार तुलसी के पौधे में न तो सघन छाँहु की शीतलता है, न गंध का जादू, न रूप का श्रृंगार, केवल आँगन का दुख-दर्द बाँटने में मन में बड़ी उत्कंठा है।

आंगन का पंछी 3rd year

मैंने अपनी ससुराल के बड़े आँगन में देखा है कि वहाँ गोरैयों के लिए धानों की मोजर आँगन के चारों ओर ओरियों के नीचे बराबर लटकायी रहती हैं और धान की मंजरियों की यह पंक्ति रीतती नहीं। शायद इसलिए कि गौरेयों को भी इनके प्रति मोह हो।

बहरहाल उस बड़े आँगन में बराबर धान सुखाया जाता है और उस पर बराबर गौरयों के दल के दल आते रहते हैं, जरा- आचार्य प्रथम एक सी देर में जरा से इशारे से यह दल तितर-बितर हो जाते हैं। पर जरा-सी आँख ओझल होते ही फिर वही जम जाते हैं।

घर में रहते हुए भी ये स्वच्छंद रहते हैं। वह ऑगन बड़ा तो है पर भरा नहीं है। साल में केवल कभी-कभी वह आँगन मेहमान की तरह आए हुए बच्चों से भरता है, पर आँगन उनसे भरने वाला है या उनसे भर चुका है, मानो इसी आशा और इसी स्मृति में गौरेयों को ऐसा प्यार दिया जाता है।

एक दिन मैं वहीं था, जबकि किसी अखबार में पढ़ा कि चीन में एक नया पुरुषार्थ जागा है। वहाँ की उत्साही सरकार ने गौरैयों को खेती का शत्रु मानकर उनके खिलाफ सामूहिक अभियान शुरु किया है।(aangan ka panchi – आंगन का पंछी)

खैर चीन में अभियान हो और वह सामूहिक ना हो तो यह अनहोनी बात होगी, पर जब यह पढ़ा कि कुछ लाखों की तादाद में वहाँ के तरुण सैनिक बंदूक लेकर गोरेयों के शिकार के लिए निकल पड़े हैं तो हँसी भी आई और रोना भी पड़ा।

हँसी इसलिए कि गौरयों पर वीरता का अपव्यय हो रहा है और रोना इसलिए कि जिस तरीके से और जिस पैमाने पर गौरयों के वध की योजना बनाई गई है, वह कितना अमानवीय है। उसी अखबार में पढ़ा की बंदूक दाग-दाग कर झुंड के झुंड इन गोरैयों को खदेड़ते हैं हैं और खदेड़ते ही रहते हैं ताकि यह कहीं बैठने को ठौर ना पा सके और अंत में वेदम होकर जमीन पर आ गिरें।

ऐसे मासूम और मनुष्य के प्रति सहज विश्वास रखने वाले पक्षी को इस प्रकार निर्मूल करने की योजना सचमुच उन्माद में प्रेरित नहीं है तो क्या है? मैंने भी बुद्धिवादी कविताएं पढ़ी हैं, जिनमें ताजमहल के निर्माण पर शोक प्रकट किया गया है।

जबकि मनुष्य का शव कफन के लिए भी तरस रहा है; जहाँ चीटियों के लिए आटा छीटने और मछलियों के लिए आटे की गोली फेंकने पर व्यंग्य कसा गया है, जबकि मनुष्य भूखों मर रहे हैं: जहाँ कि गुलाब की क्यारियों पर तरस खाया गया है. क्योंकि गेहूं की देश में कमी है अभिज्ञानशाकु और जहाँ कि कता की उपासना को ऐश समझा गया है, जबकि मनुष्य अभाव से ग्रस्त है।

मैंने इन अभियान की सफाई के लिए उन कविताओं को एक-एक करके याद किया, पर मुझे लगा कि यह तो अभाव की पूर्ति की योजना नहीं है, यह तो पूंजीवाद को समाप्त करने का भी आयोजन नहीं है, और यह मनुष्य कि सत्ता सृष्टि में सर्वोपरि मानने का कोई नया तरीका भी नहीं हो सकता है। गौरेया दाना चुगत है पर शायद जिस मात्रा में दाना चुगती है उससे कहीं अधिक लाभ व खेत का इस प्रकार करती है कि अनाज में लगने वाले कीड़ों को साफ करती रहती है।

थोड़ी देर के लिए माना कि वह दाना देती नहीं केवल लेती भर है तो भी क्या इस प्रकार समूची सृष्टि की समरसता के साथ खिलवाड़ करना उचित है? मनुष्य को इस प्रकार लाभ की आशा से नहीं मात्र अपनी हिन्दी निबन्धम प्रति हिसा की भावना से निरीह और अपने ही साथ अपने बच्चों की तरह निर्भय विचरने वालों को इस प्रकार थका-थका के सता-सता के मारना कहीं न्याय है?

यह कौन-सा पंचशील का उदाहरण है। शायद जितना अनाज गौरेयों ने खाया ना होगा उससे कहीं अधिक दाम की गोलियां उन्हें सताने में बर्बाद हो गई होगी। माना कि मनुष्य को अपने ही समान बुद्धि बल वाले दूसरे देशवासी मनुष्य के साथ प्रति हिंसा करने का सहज अधिकार थोड़ी देर के लिए हो भी और वह अपने निर्माण से अधिक अपने तुल्यवत भाई के विध्वंस पर खर्च करने के लिए पागल हो जाएं तो निबन्ध संरचन अनुचित नहीं,

आंगन का पंछी 3rd year

गौरेया – aangan ka panchi

परंतु मनुष्य जिस उत्फुल्लता के लिए, जिस मुक्ति के लिए जिस राहत के लिए इस गला-काट व्यापार में लगा हुआ है, उसी उत्फुल्लता, मुक्ति और राहत के इन जीते-जागते प्रतिबिंबों को इस प्रकार नष्ट करने पर उतारू हो जाए. यह किस प्रकार समझ में आये?

हमारे देश में भी ऐसे सयाने लोग हैं, जो अपने नाच की अयोग्यता ऑगने के टेढ़ेपन के ऊपर थोपने के लिए ऐसे-ऐसे सुझाव देते हैं कि अन्न इसलिए कम पैदा हो रहा है कि चिड़ियाँ उन्हें खा जाती हैं। बंदर उन्हें तहस-नहस कर जाते हैं। चूहे उन्हें कुतर जाते हैं और धूप उन्हें मुखा जाती है।(aangan ka panchi – आंगन का पंछी)

इसलिए पहले इनके ऊपर नियंत्रण होना चाहिए ताकि खेती अपने- आप बिना मनुष्य के परिश्रम के अधिक उपजाऊ हो जाए। पर चीन के सयाने तो इस मात्र नियंत्रण तक संतुष्ट नहीं हैं। वे निर्मूलन में विश्वास करते हैं। सृष्टि के संतुलन बनें बिगड़े, यहाँ तक कि मनुष्य जिसलिए यह कर रहा है, वह भी उसे मिले ना मिले, पहले वह अपने दिल का गुबार तो उतार ले, और चीन प्रज्ञा पारमिता का देश है।

बुद्ध की मेत्री का देश है, नए युग में मनुष्य के उद्धार का दावा करने वाला देश है और है सह-अस्तित्व, परस्पर सहयोग और प्रेम की कसम खाने वाला देश! लगता यह है कि चीन में जैसे कोई घर में रह गया हो, कोई आँगन न रह गया हो, किसी घर और किसी आँगन के लिए कोई मोहब्बत न रह गई हो, किसी घर और किसी आँगन में मुक्त हँसी न रह गई हो, उसमें बच्चे न रह गए हों

और अगर रह भी गए हों तो किसी बच्चे के चेहरे पर विश्वास की चमक न रह गई हो। तभी तो इन गौरयों के साथ नादिरशाह बदला लिया जा रहा है। उनका अपराध केवल यही है कि वे निशंक हैं और निःशंक होकर वे हर घर में आनंद के दाने बिखेर जाती हैं, जितने दाने लेती हैं, उन्हें चोगुना करके आँगन में परिवर्तित कर हर आँगन में मुक्त हस्त हो कर लुटा जाती हैं।

उनका अपराध है कि गमगीन नहीं है; उनका अपराध है कि वे कबूतर की तरह दूर तक गले में पाती बाँधकर पहुँचा नहीं सकती; उनका अपराध है कि तोता की तरह हर एक स्तुति और हर एक गाली दुहरा नहीं सकती; उनका अपराध है कि वे अपने पंखों में सुख नहीं लगा सकती,

उनका अपराध है कि उनके पास वह लाल कलॅगी नहीं है, जिसको सिर में लगाकर कूड़े की ढेरी पर खड़े होकर रात के धुँधलके में बाँग दे सकें कि अरुणोदय होने वाला है; उनका अपराध है कि वह सुबह के साथी नहीं है: दोपहर की साथी हैं, वे गगन की पंक्षी नहीं, ऑगन की पंछी हैं।

मुझे लगता है कि गौरेयों के खिलाफ यह अभियान जिन राहगीरों ने चलाया है उनको अपने राह की मंजिल नहीं मालूम। वे बिल्कुल नहीं जानते कि आखिर इस राह का अंत कहाँ है। आज यह गौरया है, कल घर की बिल्ली हो सकती है। परसों घर का दूसरा पशु हो सकता है और फिर चौथे दिन घर के प्राणी भी हो सकते हैं।

यह आक्रोश असीम है, उसका अंत नहीं है। संतोष की बात इतनी ही है कि भारत में ऊपर चाहे जो हो, भीतर एक दूसरी ही शक्ति का प्रवाह है, जो मनुष्य को सृष्टि से ऊँचा बनाने पर बल नहीं देती बल्कि मनुष्य को सृष्टि के साथ एकरस बनाने में ही उसका गौरव मानती है। गौरेया के प्रति हमारी प्रीति हमारे निजी स्वार्थ से प्रेरित है।

हम उस गरिया की उच्छलता अपनी संतान में पाना चाहते हैं। उस गौरेया का सहज विश्वास अपनी आने वाली पीढ़ी को देना चाहते हैं, जो हमसे ढिठाई के साथ हमारी विरासत छीन कर हँसते-हँसते और हँसाते-हँसाते हमसे आगे बढ़ जाएगी। हम तुलसी का पौधा इसलिए नहीं लगाते कि तुलसी को वन में कहीं जगह नहीं है

और सबसे पहले दिया तुलसी की वेदी पर इसलिए नहीं जलाते कि उस दिए की लो के बिना तुलसी को अपने जीवन में कोई गर्मी नहीं मिलेगी; बल्कि हम तुलसी की खेती अपने दर्द के निवेदन के लिए रचाते हैं। और तुलसी को दीप अपने सर्द दिल को गरमी पहुँचाने के लिए जलाते हैं। हम जिस पारिवारिक जीवन के अभ्यस्त है उसमें राग रंग और तड़क भड़क के लिए कोई स्थान नहीं है।

केवल एक दूसरे से मिलजुल कर एक दूसरे के प्रति बिना किसी अभिमान की तीव्रता के सहज भाव से समर्पित होने ही में हम जीवन की अखंडता मानते हैं। हमारा सांस्कृतिक जीवन भी इस पारिवारिक प्रेम से आप्लावित है. देवी देवताओं की कल्पना, कुल पर्वतों, कुल नदियों की कल्पना, तीर्थ धाम की कल्पना और आचायों मठों की कल्पना पारिवारिक विस्तार के ही विविध

यही नहीं पारिवारिक साहचर्य भाव ही हमारे साहित्य की सबसे बड़ी थाती है। यह कुटुंब-भाव ही हमें चर अचर, चेतन जगत के साथ कर्तव्य शील बनाता है। हम इसी से देश काल की सीमाओं की तनिक भी परवाह न करके अरबों प्रकाशवर्ष दूर नक्षत्रों से और युगों दूर उज्जवल चरित्रों से उसी प्रकार अपनापा जोड़ते हैं,

जिस प्रकार अपने घर के किसी व्यक्ति से ग्रहों की गति से अपने जीवन को परखने का विश्वास कोई अर्थ-शून्य और अंधविश्वास नहीं है, वह कुटुंब भावना का ही हमारे विराटदशौं भाव-जगत पर प्रतिक्षेप है। जैसे परिवार में छोटे से छोटा और बड़े से बड़ा एक सा ही समझा जाता है, वैसे ही सृष्टि में हम अणोरणीयान और महतो महीयान” को एक सी नजर से देखने के आदी हैं।

गौरेया मेरे लिए छोटी नहीं है, बहुत बड़ी है, वैसे ही जैसे मेरी दो साल की मिनी छोटी होती हुई भी मेरे लिए बहुत बड़ी है। बालसखा के संपादक मित्रवर सोहनलाल द्विवेदी ने एक बार मुझसे बालोपयोगी रचना माँगी। मैंने उन्हें मिनी का फोटोग्राफ भेज दिया और लिखा कि इससे बड़ी रचना में आज तक नहीं कर पाया हूँ।(aangan ka panchi – आंगन का पंछी)

मिनी बड़ी है, मेरे अर्जित परिष्कार से, मेरे अर्जित विद्या से और मेरे अर्जित कीर्ति से, क्योंकि उसकी मुक्त हँसी में जो मोगरे बिखर जाते हैं, उनकी सूरभि से बड़ी कोई परिस्कृति, सिद्ध या कीर्ति क्या होगी? वही मिनी जब गौरयों को देख कर नाचती है. उन्हें बुलाती है, उनके पास आते ही खुशी से ताली बजाती है, उन्हें धमकाती है, फिर मनाती है,

तब मुझे लगता है कि सृष्टि के दो चरम आनंदमयी अभिव्यक्तियाँ ओत-प्रोत हो गई हैं। गीता की ब्राह्मी स्थितियाँ एकाकार हो गयी है और मुक्ति की दो धाराएँ मिल गयी हैं। इसीलिए गौरयों के विरुद्ध अभियान मुझे लगता है मेरी ओर न जाने कितनों की मिनियों के विरुद्ध अभियान है। गौरयें और मिनियाँ राजनीति से कोई सरोकार नहीं रखतीं सो मैं राजनीति की सतह पर इनके बारे में नहीं सोचता।

परन्तु मनुष्य की राजनीति का जो चरम ध्येय है उसको जरूर सामने रखना पड़ता है और तब मुझे बहुत आक्रोश होता है कि भले आदमी मनुष्य बनने चते हो तो पहले मनुष्य के विश्वास की रक्षा तो करो। बंधुता बाँधने चले हो पर ममताओं के बाँध तो बने रहने दो। मुक्ति पर्व मनाओ बड़ा अच्छा है, पर मुक्ति कि जीती जागती तस्वीरें क्यों फाड़ते हो। इनका आर्थिक और नैतिक अभ्युदय चाहते हो, ठीक है, पर उसके सहज आनंद का छण क्यों छीनते हो?

अपनी चित्रकला में बांस के झुरमुट बनाकर उस पर चिड़ियों को बिठलाने वाले चितेरे, उन चिड़ियों को उनके वसेरों से क्यों उजाड़ते हो? चिड़ियों से चहचहाती लोक-कथाओं के रंग विरंगे अनुवाद छपाते हो, छपाओ, पर उन चिड़ियों की चहचहान हमेशा के लिए क्यों खत्म किए दे रहे हो? तुम अपने घर आने वाली खुशी के लिए फरमान निकाल कर गमी मनाओ, पर तुम मेरे घर की खुशी, मेरी मिनी और उसकी सहेली गोरयों की खुशी पर गमी की गैस क्यों छिड़क रहे हो?

क्या कहने से क्या समझा जाएगा, यह जानता ही नहीं, केवल जब कहे बिना रहा नहीं जाता तभी कहता हूँ। गौरयों ने विवश किया, तुलसी ने विवश किया, मिनी ने विवश किया, तब मुझे कहना पड़ा। इन तीनों में मुझे सीता की सुधि आती है। इन तीनों में मुझे धरती का दुलार छलकता नजर आता है। इसलिए मुझे उस दुलार के नाम पर यह गुहार लगानी पड़ती है कि धरतीवादियों, धरती वही नहीं है, जो तुम्हारे पैरों के नीचे है।

धरती तुम्हें अपने और असंख्य शिशुओं के साथ अपनी गोद में भरने वाली व्यापक सत्ता है। धरती की विरासत संभालना आ नहीं. उस विरासत के असंख्य साझीदारों को मिलाये बिना तुम घर के कर्ता नहीं बन सकते। यह गोरया, यह तुलसी, यह मेरी ओर यह मेरी ही नहीं, तुम्हारी भी मिनी तो उस विरासत की असली मालिक हैं, यही है कि वे बिना माँगे अपनी मिल्कियत लुटा देती हैं।

उनके प्रति कृतज्ञ बनों, अपने आप तुम्हारी बढ़ती होगी। क्योंकि

“अकृत्व परसन्तापमगत्वा खलमन्दिरम् ।

अनुल्लङ्घय सतां मार्ग यत्स्वल्पमपि तद् बहु ।।”

आंगन का पंछी वस्तुनिष्ठ प्रश्न – उत्तर

1. विद्यानिवास मिश्र का जन्म कब हुआ था?

14 जनवरी सन् 1926

2. गौरेया के विषय में गांव के लोगो का क्या कहना है?

जहां घरों में गौरेया अपना घोंसला नहीं बनाती वह घर निर्वश से हो जाता है।

3. गौरेया को मारना पाप कौन समझता है?

जो पक्षियों को मरते है वह भी गौरेयो को मारना पाप समझते है।

4. प्रत्येक घर के आंगन में क्या मिलना सामान्य बात है?

तुलसी का पौधा

5. हमारे देश में कैसे कैसे सयाने लोग है?

नाच की अयोग्यता होने पर आंगन के टेंडेपन पर थोपना।

6. बुद्ध की मैत्री वाला देश कौनसा है?

चीन देश

7. गौरेया अन्न के दाने किस में परिवर्तित कर देती है?

आनंद में

8. गौरेया कहा की पंछी है?

आंगन की पंछी

आनंदवादी

10. विद्यानिवास मिश्र जी को भारत सरकार द्वारा कौन कौनसे सम्मान प्राप्त है?

पद्म श्री और पद्म भूषण

11. चीन किस प्रकार का देश है?

प्रज्ञापारयिता वाला देश

12. आंगन का पंछी किसे कहा गया है?

गौरेया को

13. आंगन का पंछी रचना किसकी है?

विद्यानिवास मिश्र

14. आंगन का पंछी रचना की विधा कौनसी है?

ललित निबंध

15. गौरेया को पक्षियों में क्या कहा जाता है?

ब्राह्मण

16. किस देश के लोगो ने गौरेया को मरने के लिए अभियान चलाया था?

चीन

17. बालसखा के संपादक कौन है?

सोहन लाल द्विवेदी

18. चीन देश के द्वारा गौरेया के साथ कौनसा बदला लिया जा रहा है?

नादिरशाही वाला

19. विद्यानिवास मिश्र जी की मृत्यु कब हुई थी?

14 फ़रवरी सन् 2005

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *