hinditoper.com

hinditoper.com
जयशंकर प्रसाद का जीवन परिचय

जयशंकर प्रसाद का जीवन परिचय कक्षा 10

जयशंकर प्रसाद का जीवन परिचय विस्तृत रूप से दिया गया है। जिसमें जन्म-मृत्यु एवं जयशंकर प्रसाद की प्रमुख रचनाएं और भावपक्-कलापक्ष, साहित्य में स्थान सम्मिलित है।

जयशंकर प्रसाद का जीवन परिचय

जन्म – जयशंकर प्रसाद का जन्म वाराणसी के जाने-माने सुंघनी साहू परिवार में सन 1990 ई. में हुआ।

मृत्यु – मृत्यु सन 1937 ई. में मात्र 48 साल की अल्प आयु में ही उनका निधन हो गया।

जयशंकर प्रसाद की प्रमुख रचनाएं – कामायनी (महाकाव्य), लहर, करुणालय, आंसू, झरना, महाराणा का महत्व, प्रेम पथिक, कानन कुसुम आदि उनके प्रमुख काव्य रचनाएं हैं।

कलापक्ष – जयशंकर प्रसाद जी की भाषा परिमार्जित व्याकरण सम्मत संस्कृत खड़ी बोली है। भाषा माधुर और प्रसाद गुण से कूट-कूट कर भरी हुई है। भाषा भाव के अनुकूल एवं सरस से शब्द चयन अनूठा है।

अलंकार – प्रसाद का काव्य अनेक प्रकार के प्राचीन एवं नवीन अलंकार सम्मलित है। सभी अलंकार भाव प्रकाशन में सहयोगी है। परंपरागत अलंकारों के अलावा प्रसाद जी ने विशेषण विपर्यय तथा ‘मानवीकरण’ नामक अलंकारों का भी अपने काव्य में सफल प्रयोग किया है।

साहित्य में स्थान – छायावाद के उन्नयन कवि जयशंकर प्रसाद का आधुनिक हिंदी साहित्य में शीर्ष स्थान है। उनकी कविता में नई अभिव्यंजना शैली का मादक वसंत है। जयशंकर प्रसाद एक कवि नाटककार, उपन्यासकार तथा कहानीकार के रूप में सदैव स्मरण किए जाते रहेंगे। जयशंकर प्रसाद छायावाद के उत्कृष्ट कवि माने जाते हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *