hinditoper.com

hinditoper.com
नाखून क्यों बढ़ते हैं

नाखून क्यों बढ़ते हैं | नाखून क्यों बढ़ते हैं प्रश्न उत्तर | nakhun kyu badhte hai question answer

नाखून क्यों बढ़ते हैं पाठ के निबंधकार हजारी प्रसाद द्विवेदी है। हजारी प्रसाद द्विवेदी ने नाखून क्यों बढ़ते हैं। पाठ में मनुष्य की मनुष्यता का साक्षात्कार कराया है। नाखून क्यों बढ़ते हैं पाठ के प्रश्न उत्तर तथा नाखून क्यों बढ़ते हैं। के सारांश और इस निबंध के निबंधकार हजारी प्रसाद द्विवेदी जी का जीवन परिचय दिया गया है। जिसकी जानकारी इस लेख में नीचे विस्तृत रूप से दी गई है।

लेखक हजारी प्रसाद द्विवेदी का परिचय

हजारीप्रसाद द्विवेदी का जन्म सन् 1907 में गाँव आरत दूबे का छपरा, जिला बलिया (उत्तर प्रदेश) में हुआ। उन्होंने उच्च शिक्षा काशी हिंदू विश्वविद्यालय से प्राप्त की तथा शांतिनिकेतन, काशी हिंदू विश्वविद्यालय एवं पंजाब विश्वविद्यालय में अध्यापन-कार्य किया। सन् 1979 में उनका देहांत हो गया।

द्विवेदी जी ने साहित्य की अनेक विधाओं में उच्च कोटि की रचनाएँ कीं। उनके ललित निबंध विशेष उल्लेखनीय हैं। जटिल, गंभीर और दर्शन प्रधान बातों को भी सरल, सुबोध एवं मनोरंजक ढंग से प्रस्तुत करना द्विवेदी जी के लेखन की विशेषता है। उनका रचना-कर्म एक सहृदय विद्वान का रचना-कर्म है जिसमें शास्त्र के ज्ञान, परंपरा के बोध और लोकजीवन के अनुभव का सृजनात्मक सामंजस्य है।

नाखून क्यों बढ़ते हैं निबंध परिचय

प्रस्तुत निबन्ध ‘नाखून क्यों बढ़ते हैं’ में मनुष्य की मनुष्यता का साक्षात्कार कराया गया है। लेखक के अनुसार नाखूनों का बढ़ना मनुष्य की पाश्वी वृत्ति का प्रतीक हैं और उन्हें काटना या न बढ़ने देना उसमें निहित मानवता का । आज से कुछ ही लाख वर्ष पहले मनुष्य जब वनमानुष की तरह जंगली था, उस समय नख ही उसके अस्त्र थे ।

आधुनिक मनुष्य ने अनेक विनाशकारी अस्त्र-शस्त्रों का निर्माण कर लिया है। अत: नाखून बढ़ते हैं तो कोई बात नहीं, पर उन्हें काटना मनुष्य की निशानी है। हमें चाहिए के हम अपने भीतर रह गए पशुता के चिन्हों को त्याग दें और उसके स्थान पर मनुष्यता को अपनाएँ।

नाखून क्यों बढ़ते हैं प्रश्न उत्तर

1. नाखून क्यों बढ़ते हैं किस प्रकार की विधा है?

निबंध

2. नाखून क्यों बढ़ते हैं निबंध के रचयिता कौन है?

हजारी प्रसाद द्विवेदी जी

3. नाखून क्यों बढ़ते हैं? यह प्रश्न हजारी प्रसाद द्विवेदी जी से किसने पूछा?

उनकी लड़की ने

4. यह कथन किसने कहा- सब पुराने अच्छे नहीं होते, सब नए खराब नही होते।

कालिदास ने

5. Nakhun kyu badhte hai? पाठ में बूढ़े ने सबसे बड़ी चीज किसे माना है?

प्रेम

6. नख किसका प्रतीक है?

पशुता का

7. हजारों लाखों वर्ष पहले नाखून क्यों जरूरी थे?

जीवन की रक्षा के लिए

8. हजारों लाखों वर्ष पहले नाखून किसकी भूमिका निभाते थे?

अस्त्र की

9. इंद्र का वज्र किसकी हड्डियों से बना है?

दधीचि की हड्डी से

10. असुरों के पास क्या नही थे?

लोहे के अस्त्र और घोड़े

11. देवताओं और असुरो की लड़ाई में किसकी विजय हुई?

देवताओं की

12. देवताओं के राजा कौन है?

इंद्र

13. लेखक ने नाखून को किस युग की निशानी बताया है?

बर्बर युग की

14. लेखक ने नाखून को किसका प्रतीक माना है?

पाश्वी वृत्ति के जीवंत प्रतीक

15. कितने वर्ष पहले मनुष्य नाखूनों को जमकर संवारता था?

2000 वर्ष पहले

16. हजारी प्रसाद द्विवेदी जी ने निर्लज्ज अपराधी किसे कहा है?

नाखून को

17. मनुष्य को नाखून की जरूरत कब थी?

जंगली जीवन में

18. लेखक ने इंडिपेंडेंस शब्द का क्या अर्थ बताया है?

किसी की अधीनता का अभाव

19. नाखून काटने की प्रवत्ति किस बात की प्रतीक है?

मनुष्यता की

20. अस्त्र शस्त्र बढ़ने की प्रवत्ति किस बात की विरोधी है?

मनुष्यता की

21. मनुष्य और पशु की कौन कौनसी प्रवत्ति समान है?

आहार और निद्रा की

22. मनुष्य किस प्रवत्ति के कारण पशु से भिन्न है?

संयम, श्रद्धा, त्याग, तपस्या और सुख दुःख की संवेदना

23. नाखून क्यों बढ़ते हैं निबंध में लेखक ने किस बूढ़े का जिक्र किया है?

महात्मा गांधी

24. मनुष्य का कौनसा अंग अनावश्यक होने के कारण कम हो गया है?

पूछ

25. लेखक के अनुसार स्वाधीनता का क्या अर्थ है?

अपने ही अधीन रहना

26. सहजात वृत्तियां किसे कहा जाता है?

अनजान स्मृतियों को

27. पाश्विक प्रवत्ति का महानतम उदाहरण क्या है?

हिरोशिमा हत्याकांड

28. नाखूनों को काटना किस प्रकार की प्रवत्ति है?

मानवीय प्रवत्ति

29. नाखूनों को बढ़ाना किस प्रकार की प्रवत्ति है?

पाश्विक प्रवत्ति

30. लेखक ने सहज वृत्तियों में किसका उल्लेख किया है?

नाखून का बढ़ना, बालों का बढ़ना और दांतों का दुबारा आना आदि

31. Nakhun kyu badhte hai निबंध का कौनसा प्रकार है?

ललित निबंध

32. Nakhun kyu badhte hai निबंध में कौनसा जीव दयनीय होता है?

अल्पज्ञ पिता

33. मनुष्यों के राजा के पास किस प्रकार के अस्त्र थे?

लोहे के

34. नखधर मनुष्य किस पर भरोसा कर आगे चल पड़ा?

एटम बम पर

35. नखदंतावलंबी शब्द का अर्थ क्या है?

नाखून और दांतों पर निर्भर रहने वाला

36. कौन नाखून को जिलाए जा रहा है?

प्रकृति

37. लेखक कभी कभी निराश क्यों हो जाते है?

मनुष्य के नाखूनों को देखकर

38. लाखों वर्ष पहले मनुष्य नाखूनों को किस आकर में कटता था?

त्रिकोण, वर्तुलाकार, चंद्राकर और दंतुल आदि

39. सिक्थक का अर्थ है?

मोम

40. नाखूनों को लाल और चिकना किससे किया जाता था?

सिक्थक और अलक्तक से

41. किस देश के लोगों को बड़े बड़े नाखून पसंद थे?

गौड़ देश (बंगाल का एक भाग) के लोगों को

42. कौन छोटे नाखून को पसंद करते थे?

दक्षिणात्य

43. सहजात शब्द का अर्थ है?

जन्म के साथ

44. पलकों का गिरना, सहज वृत्तियों में कौनसा स्थान है?

चौथा

45. सहजात वृत्ति का एक नाम और क्या है?

अनजान स्मृति

46. नौसिखुए का शाब्दिक अर्थ है?

अभी अभी सीखा हुआ

47. लेखक के अनुसार हमारी संस्कृति की बड़ी भारी विशेषता क्या है?

अपने आप पर अपने आप के द्वारा लगाया गया बंधन

48. कौन मनुष्य का आदर्श नही बन सकती?

मरे बच्चे को गोद में दबाए रहने वाली बंदरिया

49. महाभारत में सब वर्णों का सामान्य धर्म किसे कहा है?

सत्य, अक्रोध और निर्वैर भाव को

50. अज्ञान ……… को पछाड़ता है?

सर्वत्र आदमी

51. मनुष्य का स्वभाव कैसा है?

स्व का बंधन

52. Nakhun kyu badhte hai निबंध किस निबंध संग्रह में संकलित है?

कल्पलता

53. मारणास्त्र शब्द का संधि विच्छेद क्या है?

मरण + अस्त्र (दीर्घ स्वर संधि)

54. हजारी प्रसाद द्विवेदी जी द्वारा रचित पाठ है?

नाखून क्यों बढ़ते हैं

55. नाखून के बाद मानव ने किसके हथियार अपनी सुरक्षा के लिए बनाए?

पेड़ की डाली और पत्थर को

56. लोहे के अस्त्र न होने के कारण कौन कौन हार गया?

नाग, सुपर्ण, यक्ष, गंधर्व, असुर और राक्षस

57. वर्तमान में मनुष्य बच्चों को क्यों डाटता है?

नाखून काटने के लिए

58. देवताओं के राजा ने मनुष्यों के राजा की सहायता क्यों ली?

क्योंकि मनुष्य के पास लोहे के अस्त्र थे

59. हिरोशिमा की घटना कब हुई?

6 अगस्त, 1945

60. वात्स्यायन ने किस ग्रंथ की रचना की?

कामसूत्र

61. मनुष्य की मनुष्यता यही है की वह सबके सुख दुःख को सहानुभूति से देखता है?

गौतम बुद्ध ने

62. मनुष्य की चरितार्थता किया चीज में निहित है?

प्रेम, मैत्री, त्याग और सबके मंगल में

63. हजारी प्रसाद द्विवेदी को पद्म भूषण की उपाधि से कब सम्मानित किया गया?

सन् 1957 ई. में

64. नाखूनों का बढ़ना, सहज वृत्तियों में कौनसा स्थान है?

पहला

65. बालों (केश) का बढ़ना, सहज वृत्तियों में कौनसा स्थान है?

दूसरा

66. दांतों का दुबारा उगना, सहज वृत्तियों में कौनसा स्थान है?

तीसरा

67. हजारी प्रसाद द्विवेदी जी का जन्म कब हुआ?

सन् 1907 में

68. लेखक हजारी प्रसाद द्विवेदी जी का जन्म कहा हुआ?

गांव आरत दुबे का छपरा, जिला बलिया, उत्तरप्रदेश

69. Hajari Prasad Dwivedi ji की मृत्यु कब हुई?

सन् 1979 में

70. अनाम दास का पोथा किस लेखक की रचना है?

Hajari Prasad Dwivedi ji

नाखून क्यों बढ़ते हैं निबंध का सारांश

प्रस्तुत पाठ ‘नाखून क्यों पढ़ते हैं’ हजारी प्रसाद द्विवेदी के द्वारा लिखा गया है। इसमें लेखक ने नाखूनों के माधयम से मनुष्य के आदिम बर्बर प्रवृत्ति का वर्णन करते हुए उसे बर्बरता त्यागकर मानवीय गुणों को अपनाने का संदेश दिया है। एक दिन लेखक की पुत्री ने प्रश्न पूछा कि नाखून क्यों बढ़ते हैं? बालिका के इस प्रश्न से लेखख हतप्रभ हो गए।

अप्रतिक्रिया स्वरूप लेखक ने इस विषय पर मानव-सभ्यता के विकास पर अपना विचार प्रकट करते हुए आज से लाखों वर्ष पूर्व जब मनुष्य जंगली अवस्था में था, तब उसे अपनी रक्षा के लिए हथियारों की आवश्यकता थी।

नाखून क्यों बढ़ते हैं FAQS

नाखून क्यों बढ़ते हैं? यह प्रश्न लेखक के सामने कैसे उपस्थित हुआ?

नाखून क्यों बढ़ते हैं? यह प्रश्न एक दिन लेखक की छोटी लड़की ने उनसे पूछ लिया। उस दिन यह प्रश्न लेखक के सामने पूरी मानव जाति से किया गया प्रश्न के समान उपस्थित हुआ।

स्वाधीनता शब्द की सार्थकता लेखक क्या बताता है?

लेखक कहते है कि स्वाधीनता का अर्थ है अपने अधीन रहना। क्योंकि यहां के लोगों ने अपनी आजादी के जितने भी नामकरण किए उनमें है स्वतंत्रता, स्वराज, स्वाधीनता। इन सब में स्व का बंधन है।

बढ़ते नाखूनों द्वारा प्रकृति मानव को क्या याद दिलाना चाहती है?

बढ़ते नाखूनों द्वारा प्रकृति मानव को याद दिलाना चाहती है कि तुम अब भी भीतर वाले अस्त्र से वंचित नहीं हुए हो। तुम्हारे नाखून को भुलाया नही जा सकता।

1 thought on “नाखून क्यों बढ़ते हैं | नाखून क्यों बढ़ते हैं प्रश्न उत्तर | nakhun kyu badhte hai question answer”

  1. Pingback: ek kutta aur ek maina question answers | एक कुत्ता और मैना

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *