hinditoper.com

hinditoper.com
प्राण जाएं पर वृक्ष न जाए पाठ

Class 8th प्राण जाएं पर वृक्ष न जाए पाठ के वस्तुनिष्ठ प्रश्न और उत्तर

प्राण जाए पर वृक्ष ना जाए पाठ से क्या प्रेरणा मिलती है

प्राण जाएं पर वृक्ष न जाए पाठ के वस्तुनिष्ठ प्रश्न और उत्तर

1. विश्नोई समाज की स्थापना किसने की थी?

     जम्भेश्वर भगवान ने

2. जम्भेश्वर भगवान ने कब विश्नोई समाज की स्थापना की थी?

    लगभग 535 वर्ष पहले सन् 1485 में

3. जम्भेश्वर भगवान ने कितने नियमों की शिक्षा दी?

     29 सरल नियम

4. इन 29 सरल नियम का पालन करने वाले कौन कहलाए?

    विश्नोई

5. वृक्षों को कटने से बचाने के लिए किसने अपनी जान दे दी?

    शहीद अमृता देवी विश्नोई ने

6. शहीद अमृता देवी विश्नोई के साथ साथ और कितने व्यक्ति शहीद हुए थे?

     362 अन्य विश्नोई 

7. जोधपुर के राजा का नाम क्या था?

     राजा अभयसिंह 

8. राजा अभयसिंह कहां के राजा थे?

    जोधपुर के

9. राजा अभयसिंह को क्या चाहिए था?

    लकड़ियां

10. राजा अभयसिंह को लकड़ियां क्यों चाहिए थी?

       महल बनवाने के लिए

11. राजा अभयसिंह की सेना किस गांव में पेड़ कटने पहुंची?

     खेजडली गांव में

12. खेजडली गांव में किनका निवास था?

       विश्नोइयो का

13. शहीद अमृता देवी विश्नोई का नारा क्या था?

      सिर सांटे पर रूखे रहे तो भी सस्तो जाण

14. सिर सांटे पर रूखे रहे तो भी सस्तो जाण का अर्थ है?

       सिर कट जाए पर सेना पेड़ बचा रहे तो भी यह सस्ता सौदा है

15. राजा अभयसिंह की सेना ने किसकी जान ले ली?

      शहीद अमृता देवी विश्नोई के साथ साथ 362 अन्य विश्नोईयो की

16. सन् 1996 में शहीद निहालचंद विश्नोई को कौनसा सम्मान प्राप्त हुआ?

       शौर्यचक्र सम्मान

17. स्व. निहालचंद विश्नोई को किस लिए शौर्यचक्र सम्मान प्राप्त हुआ?

      हिरणो की रक्षा के लिए

18. शहीद निहालचंद विश्नोई कौन थे?

       देश के पहले गैर सैनिक जिन्हे शौर्यचक्र सम्मान प्राप्त हुआ

19. स्मरण रखने योग्य बात क्या है?

      हमे पेड़ो की जरूरत है, पेड़ो को हमारी नही

20. भारत सरकार द्वारा कौनसा सम्मान शहीद अमृता देवी विश्नोई और 362 अन्य विश्नोईयो को याद करके दिया जाता है?

      राष्ट्रीय पर्यावरण पुरुस्कार

21. शहीद अमृता देवी विश्नोई पुरुस्कार में कितनी राशि भेंट के रूप में दी जाती है?

     1 लाख रुपए

22. मध्य प्रदेश सरकार द्वारा शहीद अमृता देवी विश्नोई के नाम पर कितने व्यक्तिगत पुरुस्कार देती है?

         2 

23. मध्य प्रदेश सरकार द्वारा शहीद अमृता देवी विश्नोई के नाम पर कितनी राशि भेंट के रूप में देती है?

      50 हजार रुपए

24. मध्य प्रदेश सरकार किसके नाम पर दो व्यक्तिगत पुरुस्कार देती है?

       शहीद अमृता देवी विश्नोई

25. शहीद अमृता देवी विश्नोई के साथ शहीद विश्नोइयो की संख्या कितनी थी?

      362

26. विश्व पर्यावरण दिवस कब मनाया जाता है?

       5 जून को

पाठ में दिए गए शब्दों के विलोम शब्द 

1. वाचाल

    विलोम शब्द – मूक

2. राजा

    विलोम शब्द – रंक

3. अपमानित

    विलोम शब्द – सम्मानित

4. भक्षक

   विलोम शब्द – रक्षक

5. हर्ष

    विलोम शब्द – शौक

6. क्षम्य 

    विलोम शब्द – अक्षम्य

7. हिंसा

    विलोम शब्द – अहिंसा

8. हित

    विलोम शब्द – अहित

9. दुःखी

    विलोम शब्द – सुखी

10. विरोध

    विलोम शब्द – समर्थन

पाठ में दिए कुछ शब्दों का वाक्य में प्रयोग

1. श्रद्धांजलि

2. संकल्प

    वाक्य में प्रयोग – हम सब को वातावरण को साफ रखने का संकल्प लेना चाहिए।

3. शौर्यचक्र 

4. प्रासंगिक

    वाक्य में प्रयोग – प्राण जाएं पर वृक्ष न जाएं पाठ में शहीद अमृता देवी विश्नोई का प्रासंगिक वर्णन है।

5. जम्भेश्वर

     वाक्य में प्रयोग – जम्भेश्वर भगवान ने ही विश्नोई समाज की स्थापना की थी।

पाठ में दिए गए शब्दों का संधि विच्छेद

1. वृक्षारोपण

     संधि विच्छेद – वृक्ष + रोपण

2. एकमेव

    संधि विच्छेद – एक + एक

3. राजज्ञा

    संधि विच्छेद – राजा + आज्ञा

4. मरणोपरांत

    संधि विच्छेद – मरण + उपरांत

5. वातावरण

    संधि विच्छेद – वात + आवरण

प्राण जाएं पर वृक्ष न जाए पाठ के प्रश्न और उत्तर

1. सैनिकों की कुल्हाड़ी का सबसे पहले विरोध किसने किया?

     सैनिकों की कुल्हाड़ी का सबसे पहले विरोध अमृता देवी विश्नोई ने किया, क्योंकि शहीद अमृता देवी विश्नोई वृक्षों से बहुत ही प्रेम करती थी।

2. अमृता देवी का नारा क्या था?

     सिर सांटे पर रूखे रहे तो भी सस्तो जाण। इसका अर्थ है की सिर कट जाए पर सेना पेड़ बचा रहे तो भी यह सस्ता सौदा है।

3. विश्नोई समाज की स्थापना किसने की थी?

     विश्नोई समाज की स्थापना भगवान जम्भेश्वर ने की थी। जम्भेश्वर भगवान ने सन् 1485 में आज से लगभग 535 साल पहले विश्नोई समाज की स्थापना की।

4. हिरणों की रक्षा में कौन शहीद हुआ था?

     हिरणों की रक्षा में शहीद निहालचंद विश्नोई जी शहीद हुए थे। भारत सरकार द्वारा हिरणों की रक्षा के लिए शहीद निहालचंद विश्नोई जी को शौर्यचक्र सम्मान से सम्मानित किया गया था।

5. राजा ने पेड़ काटने की सजा क्या घोषित की?

     खेजडली ग्राम में हुए नरसंहार के कारण राजा ने पेड़ काटने की सजा यह घोषित की कि यदि अब से कोई भी व्यक्ति वृक्षों को काटेगा या उन्हें हानि पहुंचाएगा तो उसे राजदंड दिया जाएगा।

प्राण जाएं पर वृक्ष न जाएं पाठ का सारांश

हमें अपनी रक्षा करनी है, तो हमें पेड़ों की रक्षा करनी होगी। क्योंकि प्रदूषण से हम अनेक तरह के रोगों से ग्रस्त हो जायेंगे। इसके लिए हमें पेड़ लगाने होंगे। वन के जीवों की रक्षा करने से और नये पेड़-पौधे लगाने से ही हम बलिदानी विश्नोइयों को सच्ची श्रद्धांजलि दे सकते हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *