hinditoper.com

hinditoper.com
शिरीष के फूल mcq

शिरीष के फूल । शिरीष के फूल mcq । शिरीष के फूल का सारांश

इस लेख में शिरीष के फूल mcq वस्तुनिष्ठ प्रश्न उत्तर तथा शिरीष के फूल का सारांश और लेखक हजारी प्रसाद द्विवेदी जी का परिचय विस्तृत रूप से दिया गया है।

लेखक हजारी प्रसाद द्विवेदी का परिचय

जन्म – सन् 1907, आरत दुबे का छपरा, बलिया (उत्तर प्रदेश)

प्रमुख रचनाएँ – अशोक के फूल, कल्पलता, विचार और वितर्क, कुटज, विचार प्रवाह, आलोक पर्व, प्राचीन भारत के कलात्मक विनोद (निबंध-संग्रह)

बाणभट्ट की आत्मकथा, चारुचंद्रलेख, पुनर्नवा, अनामदास का पोधा (उपन्यास)

सूर साहित्य, कबीर, मध्यकालीन बोध का स्वरूप, नाथ संप्रदाय, कालिदास की लालित्य-योजना, हिंदी साहित्य का आदिकाल, हिंदी साहित्य की भूमिका, हिंदी साहित्य: उद्भव और विकास (आलोचना – साहित्येतिहास)

संदेश रासक, पृथ्वीराजरासो, नाथ- सिद्धों की बानियाँ (ग्रंथसंपादन) और विश्व भारती (शांतिनिकेतन) पत्रिका का संपादन

पुरस्कार व सम्मान – साहित्य अकादेमी (‘आलोक पर्व’ पर) भारत सरकार द्वारा ‘पद्म लखनऊ विश्वविद्यालय द्वारा डी. लिट्

मृत्यु – सन् 1979, दिल्ली में

शिरीष के फूल पाठ का लघु परिचय

ऐसी भावधारा में बहते हुए उसे देह-बल के ऊपर आत्मबल का महत्त्व सिद्ध करने वाली इतिहास विभूति गांधीजी की याद हो आती है तो वह गांधीवादी मूल्यों के अभाव की पीड़ा से भी कसमसा उठता है।

निबंध की शुरुआत में लेखक शिरीष पुष्प को कोमल सुंदरता के जाल बुनता है, फिर उसे भेदकर उसके इतिहास में और फिर उसके जरिये मध्यकाल के सांस्कृतिक इतिहास में पैठता है; फिर तत्कालीन जीवन व सामंती वैभव-विलास को सावधानी से उकेरते हुए उसका खोखलापन भी उजागर करता है।

लेखक अशोक के फूल के भूल जाने की तरह ही शिरीष को नजरअंदाज किए जाने की साहित्यिक घटना से आहत है और इसी में उसे सन्ये कवि का तत्त्व-दर्शन भी होता है। उसके अनुसार योगी की अनासक्त शून्यता और प्रेमी की सरस पूर्णता एक साथ उपलब्ध होना सत्कवि होने की एकमात्र शर्त है। ऐसा कवि ही समस्त प्राकृतिक और मानवीय वैभव में रमकर भी चुकता नहीं और निरंतर आगे बढ़ते जाने की प्रेरणा देता है।

शिरीष के पुराने फलों की अधिकार- लिप्स खड़खड़ाहट और नए पत्ते फलों द्वारा उन्हें धकियाकर बाहर निकालने में लेखक साहित्य, समाज व राजनीति में पुरानी और नयी पीढ़ी के द्वंद्व को संकेतित करता है तथा स्पष्ट रूप से पुरानी पीढ़ी और हम सब में नयेपन के स्वागत का साहस देखना चाहता है।

शिरीष के फूल mcq

शिरीष के फूल mcq | शिरीष के फूल पाठ के वस्तुनिष्ठ प्रश्न उत्तर

1. शिरीष के फूल पाठ की विधा है?

ललित निबंध

2. शिरीष के फूल पाठ के लेखक कौन है?

हजारी प्रसाद द्विवेदी

3. शिरीष के फूल निबंध किस काव्य संग्रह से लिया गया है?

कल्पलता

4. लेखक हजारी प्रसाद द्विवेदी का जन्म कब हुआ?

सन् 1907 में

5. हजारी प्रसाद द्विवेदी की प्रमुख 2 रचनाओं के नाम बताए?

अशोक के फूल, शिरीष के फूल

6. हजारी प्रसाद द्विवेदी को भारत सरकार द्वारा कौनसा सम्मान प्राप्त है?

पद्मभूषण

7. हजारी प्रसाद द्विवेदी का जन्म कहां हुआ?

आरत दुबे का छपरा, बलिया (उत्तरप्रदेश)

8. हजारी प्रसाद द्विवेदी की मृत्यु कब हुई?

सन् 1979 में

9. हजारी प्रसाद द्विवेदी की मृत्यु कहां हुई?

दिल्ली में

10. शिरीष के वृक्ष …….. होते है?

बड़े और छायादार

11. लेखक जहां शिरीष के फूल लेख को लिख रहे थे, वहां कौन कौन से पेड़ थे?

शिरीष के वृक्ष, आरग्वध (अमलतास), कार्णिकार

12. शिरीष की तुलना किससे नही की जा सकती?

आरग्वध से

13. शिरीष के पुष्प किसका कोमल दबाव सहन कर पाते है?

भौंरो का

14. शिरीष का फूल किस साहित्य में बहुत कोमल माना गया है?

संस्कृत साहित्य में

15. हजारी प्रसाद द्विवेदी किसका विरोध नहीं कर पाते है?

महान कवि कालिदास का

16. जगत के अतिपरिचित और अतिप्रमाणिक सत्य क्या है?

जरा और मृत्यु

17. शिरीष का वृक्ष कहां से अपना रस खींचता है?

वायुमंडल से

18. किसके मुंह से संसार की सबसे सरस रचनाएं निकलती है?

अवधूतों के मुंह से

19. द्विवेदी ने शिरीष की तुलना किससे की है?

कबीर से

20. अनासक्त योगी किसे कहा गया है?

कालिदास को

21. हजारी प्रसाद द्विवेदी के अनुसार यदि कवि बनना है तो पहले क्या बनो?

फक्कड़

22. ब्रह्मा जी ने क्या लिखा?

वेदों को

23. रामायण किसने लिखी?

वाल्मीकि जी

24. वेद व्यास की महान रचना कौनसी है?

महाभारत

25. विज्जिका देवी कहां की थी?

कर्णाट राज की प्रिया

26. विज्जिका देवी ने गर्वपूर्वक कितने कवियों को माना है?

तीन ( ब्रह्मा, वाल्मीकि और व्यास )

27. अवधूत शब्द का अर्थ है?

सांसारिक बंधनों और वासनाओं से ऊपर उठा हुआ सन्यासी

28. ईक्षुदंड का शाब्दिक अर्थ है?

गन्ने का तना

29. ईक्षुदंड का संधि विच्छेद क्या है?

ईक्षु + दंड

30. शिरीष के फूल में पंखुड़ियों की जगह क्या होता है?

रेशे

31. दिन दस फूला फूलिके खन्खड भया पलास। यहां पंक्ति किसकी है?

कबीरदास की

32. शिरीष के फूल कब से कब तक बने रहते है?

वसंत के आगमन से लेकर आषाढ़ तक

33. कौन कालजयी अवधूत की भांति अजेयता मंत्र का प्रचार करता है?

शिरीष

34. दोलाओ का अर्थ है?

झूला

35. शिरीष के वृक्ष की डाल ……. होती है?

कमजोर

36. पदम् सहेत भ्रमरस्य पेलवम् शिरीष पुष्पम न पुनः पतत्रिणाम्। किसका कथन है?

कालिदास का

37. शिरीष के फल कमजोर होते है?

नही, मजबूत

38. शिरीष के फल वृक्ष पर ठूठ की तरह जमे रहते है, यह देखकर लेखक को किसकी याद आती है?

नेताओं की (जिन्हे नए पौधे के लोग निकलते है)

39. धरा को प्रमान यही तुलसी जो फरा सो झरा, जो बरा सो बुताना। कथन किसका है?

तुलसीदास जी का

40. मेघदूत किसकी रचना है?

कालिदास की

41. शकुंतला का चित्र किसने बनाया था?

राजा दुष्यंत ने

42. शकुंतला कहा से निकली थी?

कालिदास के हृदय से

43. अनासक्त योगी की सूची में कौन कौन शामिल है?

सुमित्रानंदन पंत, रविन्द्र नाथ टैगोर

44. वृक्ष का पर्यायवाची शब्द लिखे?

पेड़, तरु

45. हजारी प्रसाद द्विवेदी ने गांधी जी को क्या कहकर संबोधित किया है?

बूढ़ा

46. द्विवेदी जी जब जब शिरीष की ओर देखते है तो उनके मन में क्या सवाल आता है?

हाय, वह अवधूत आज कहां है!

47. आरग्वध वृक्ष के फल का आकार कैसा होता है?

लगभग एक डेढ़ फुट के बेलनाकार

48. अरिष्ठ वृक्ष के फल को सुखाकर उसका चूर्ण बनाकर क्या काम आता है?

बाल धोने और कपड़े धोने में

49. कामदेव के पांच पुष्पवाणों में से एक कौनसा वृक्ष है?

अशोक वृक्ष

50. अशोक वृक्ष का वानस्पतिक नाम क्या है?

सराका इंडिका

शिरीष के फूल का सारांश

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *