hinditoper.com

hinditoper.com
संत कबीर दास का जीवन परिचय

संत कबीर दास का जीवन परिचय | sant kabir das jeevan parichay in hindi

संत कबीर दास का जीवन परिचय

जन्म – सन् 1398 ईस्वी में, वाराणसी में

मृत्यु – सन् 1518 ईस्वी में

प्रमुख रचनाएं – साखी, सबद और रमैनी।

भाव पक्ष –

प्रेम भावना और भक्ति – कबीर ने ज्ञान को महत्व दिया है। उनकी कविता में स्थान – स्थान पर प्रेम और भक्ति की उत्कृष्ट भावना परिलक्षित है।

कला पक्ष –

भाषा – कबीर दास की भाषा अपरिष्कृत है। इसमें पंजाबी, राजस्थानी, उर्दू, फारसी आदि भाषाओं के शब्दों का विकृत रूप से प्रयोग किया है। उनकी भाषा को पांच मेल, खिचड़ी या सधुक्कड़ी भी कहा जाता है।

शैली – इन्होंने अपनी रचना में सरल, सहज व सरस शैली में उपदेश दिए हैं।

छंद – इन्होंने अपनी रचनाओं में दोहा व चौपाई छंद को विशेष रूप से अपनाया है।

साहित्य में स्थान

साहित्य में स्थान – कबीर दास एक उच्च कोटि के साधन के उपासक और ज्ञान के अन्वेषक है। इनका समस्त साहित्य एक जीवन मुक्त संत के गुढ एवं एक गंभीर अनुभवों का भंडार है। यह समाज सुधारक एवं युग निर्माता के रूप में सदैव याद किए जाएंगे।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *