hinditoper.com

hinditoper.com
Application layer in Hindi

Application layer in Hindi | Application layer protocols | एप्लीकेशन लेयर

hinditoper.com द्वारा लिखे गए Application layer in OSI model के इस लेख में OSI मॉडल किसे कहते हैं? OSI मॉडल की 7 layers के नाम तथा एप्लीकेशन लेयर किसे कहते हैं? (Application layer in Hindi) और उसके कार्य दिए गए हैं। जो निम्न है –

OSI model in computer network in hindi

layers of OSI model –

OSI model में 7 लेयर्स होती है, जिसके नाम निम्न है –

1. Application layer in Hindi ( एप्लीकेशन लेयर )

2. Presentation layer ( प्रेजेंटेशन लेयर )

3. Session layer ( सेशन लेयर )

4. Transport layer ( ट्रांसपोर्ट लेयर )

5. Network layer ( नेटवर्क लेयर )

6. Data link layer ( डाटा लिंक लेयर )

7. Physical layer ( फिजिकल लेयर )

Application layer in OSI model

Application layer in Hindi – एप्लीकेशन लेयर OSI (Open System Interconnection) मॉडल की 7 लेयर्स में से एक है। यह लेयर सबसे ऊपर वाली लेयर है। इसे upper layer के नाम से भी जाना जाता है।

Application layer एक interface की तरह काम करती है। अर्थात यूजर, सिस्टम एप्लीकेशन को आसानी से एक्सेस कर सके, उसके लिए यह लेयर user friendly interface प्रदान करती है।

Application layer in Hindi ( एप्लीकेशन लेयर )

Application layer in Hindi, user द्वारा उपयोग होने वाली एप्लीकेशन (सिस्टम एप्लीकेशन) के लिए विभिन्न प्रोटोकॉल को भी मैनेज करती है। यह लेयर मुख्यतः HTTP (Hyper Text Transfer Protocol), SMTP (Simple Mail Transfer Protocol), DNS (Domain Name System) आदि protocols का उपयोग डाटा को ट्रांसमिट या रिसीव करने में करती है।

Application layer in OSI model के कार्य

1. एप्लीकेशन लेयर यूजर को सिस्टम एप्लीकेशन को एक्सेस करने की परमिशन देती है, जिससे यूजर एप्लीकेशंस से आसानी से interact हो सके।

  • Upload – किसी भी डाटा को वेब सर्वर पर डालना। अर्थात यूजर के सामान्य जानकारी जैसे सोशल मीडिया पोस्ट।
  • Access – उपयोग में आने वाले डाटा को वेब ब्राउजर की मदद से सर्वर से प्राप्त करना।
  • Delete – अनावश्यक डाटा को अपने सिस्टम में से हटाना। और नए डाटा के लिए स्टोरेज को फ्री करना।
  • Manage – data को सही तरीके से व्यवस्थित करना ताकि समय पर उसे प्राप्त किया जा सके।

3. Application layer in OSI model की यह भी जिम्मेदारी होती है कि वह सही client (user) को सही डाटा प्रोवाइड कराए। अर्थात यूजर ने सर्वर से जिस डाटा की मांग की है उसे वही डाटा या उससे रिलेटेड डाटा प्रदान किया जाए। इसके लिए एप्लीकेशन लेयर कई प्रकार के प्रोटोकॉल को फॉलो करती है। जो की निम्न है –

Application layer protocols

एप्लीकेशन लेयर, डाटा को ट्रांसफर तथा रिसीव करने के लिए कई प्रकार के प्रोटोकॉल का उपयोग करती है।

TELNET Application layer protocols – TELNET protocol का पूरा नाम Telecommunication Network है। जिसका उपयोग एप्लीकेशन लेयर द्वारा फाइल्स को handle करने में किया जाता है। TELNET protocol का port number 23 होता है।

SMTP Application layer protocols – SMTP का पूरा नाम Simple Mail Transfer Protocol है। यह प्रोटोकॉल एक यूजर से दूसरे यूजर तक mail transmission के लिए जिम्मेदार होता है। इसका port number 25 और 597 होता है।

HTTPs Application layer protocols – HTTPs का पूरा नाम Hyper Text Transfer Protocol secure होता है। यह डाटा को किसी भी फॉर्मेट में जैसे text, audio, video आदि को एक्सेस करने में मदद करता है।

DHCP Application layer protocols DHCP का full form Dynamic Host Configuration Protocol होता है। जो host को IP address प्रोवाइड करने के लिए जिम्मेदार रहता है। इसका port number 67 और 68 होता है।

DNS Application layer protocols – DNS प्रोटोकॉल का full form Domain Name System होता है। एप्लीकेशन लेयर द्वारा इसका प्रयोग IP एड्रेस को map करने के लिए किया जाता है।

FAQ – Application layer in Hindi

Application layer in OSI model किसे कहते हैं?

एप्लीकेशन लेयर OSI मॉडल की 7 लेयर्स में से एक है। Application layer एक interface की तरह काम करती है। अर्थात यूजर, सिस्टम एप्लीकेशन को आसानी से एक्सेस कर सके, उसके लिए यह लेयर user friendly interface प्रदान करती है। यह लेयर सबसे ऊपर वाली लेयर है।

एप्लीकेशन लेयर कौन कौन से प्रोटोकॉल को फॉलो करती है?

एप्लीकेशन लेयर, डाटा को ट्रांसफर तथा रिसीव करने के लिए कई प्रकार के प्रोटोकॉल का उपयोग करती है –
1. TELNET – TELNET protocol का पूरा नाम Telecommunication Network है।
2. HTTPs – HTTPs का पूरा नाम Hyper Text Transfer Protocol secure होता है।
3. DHCP – DHCP का full form Dynamic Host Configuration Protocol होता है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *