hinditoper.com

hinditoper.com
Ethernet in hindi

ईथरनेट क्या है? | Ethernet in hindi

hinditoper.com द्वारा लिखे गए इथरनेट क्या है? (Ethernet in hindi) के इस लेख में Ethernet in computer networks in hindi दिया गया है। साथ ही साथ Advantages and Disadvantages of Ethernet in computer networks in hindi, Cables of Ethernet in hindi, Topology in Ethernet in hindi, difference between internet and ethernet in hindi, difference between fast ethernet and gigabit ethernet in hindi बिंदुओं को भी विस्तार से समझाया गया है जो कि निम्न है –

Ethernet in computer networks in hindi

Ethernet in hindi – Ethernet एक type of protocol है, जो OSI मॉडल की पहली लेयर (Physical layer) और दूसरी लेयर (Data link layer) पर काम करती है। Ethernet एक केबल है, जिसका इस्तेमाल कंप्यूटर नेटवर्क बनाने में किया जाता है। Ethernet cable की मदद से नेटवर्क से जुड़े कम्प्यूटर्स आपस में कम्युनिकेट कर सकते हैं।

सरल शब्दों में कहा जाए तो इथरनेट केबल की मदद से दो या दो से अधिक कंप्यूटर डाटा को शेयर कर सकते हैं। Ethernet cable का मुख्य रूप से उपयोग local area network को बनाने में किया जाता है।

Ethernet cable को सन 1983 में लॉन्च किया गया था जिसे Xerox ने डेवलप (विकसित) किया था। प्रारंभ में इथरनेट केबल की स्पीड कम थी (लगभग 2 Mbps से लेकर 5 Mbps के बीच), अर्थात इसमें एक समय पर ज्यादा डाटा को ट्रांसफर नहीं किया जा सकता था। जिसकी वजह से डाटा ट्रांसमिशन में delay देरी होती थी। समय के साथ इसकी स्पीड में भी बढ़ोत्तरी की गई है।

Ethernet in hindi

Ethernet की मदद से local area network में कम्प्यूटर्स को फिजिकल मीडिया (wired media) में जोड़ सकते हैं। इथरनेट केबल्स कई अलग अलग बैंडविथ में उपलब्ध होती है, जैसे 10 base 2, 10 base 5, 10 base T, 100 base fx आदि और भी होती है।

जहां 10 या 100 का अर्थ है – Mbps (Mega bit per second)

base का अर्थ है – डाटा डिजिटल फॉर्म में ट्रांसमिट होगा।

2, 5 का अर्थ है – केबल की लंबाई मीटर में।

T और fx का अर्थ है – ट्विस्टेड पेयर केबल तथा फाइबर ऑप्टिक केबल

Advantages and Disadvantages of Ethernet in computer networks in hindi

इथरनेट केबल को उपयोग करने पर होने वाले लाभ तथा हानि (Advantages and Disadvantages) निम्न है :-

Advantages of Ethernet in hindi

1. इथरनेट केबल में तेज गति से डाटा को ट्रांसफर किया जा सकता है।

2. इथरनेट केबल अलग अलग कई कॉस्ट में उपलब्ध होती है।

3. इथरनेट केबल को मेंटेन तथा installation करना सरल और आसान होता है।

4. इथरनेट में उपयोग होने वाली केबल्स आसपास से कवर्ड होने के कारण किसी भी प्रकार की noise नही होती है जिससे डाटा ट्रांसमिशन में एरर आने की संभावना कम होती है।

Disadvantages of Ethernet in hindi

1. इथरनेट केबल्स की लंबाई सीमित होती है। इसीलिए इसका इस्तेमाल लोकल एरिया नेटवर्क को बनाने में ही किया जाता है।

2. नेटवर्क के mesh topology में बनाया गया तो इसकी कॉस्ट हाई हो जाती है क्योंकि अधिक केबल्स की आवश्यकता पड़ती है।

Cables of Ethernet in hindi

Ethernet technology में मुख्य रूप से तीन प्रकार की केबल्स का उपयोग किया जाता है –

1. Coaxial cable : Coaxial cable को coax cable के नाम से भी जाना जाता है। इसमें ठोस कॉपर वायर का एक सेंट्रल कोर (मुख्य तार) होता है। जो आसपास से इंसुलेटिंग शीट से घिरा रहता है। जिसकी वजह से वातावरण में फैली आवांछनीय नॉइस से यह सेंट्रल कोर को बचता है। Coaxial cable की अपनी कुछ विशेषताएं हैं जैसे कि इसकी बैंडविथ हाई होती है। Twisted pair cable से अधिक मजबूत तथा अच्छी होती है। डाटा ट्रांसफर रेट भी अधिक होता है। इसके भी दो प्रकार होते है जो निम्न है –

  • Thin coaxial cable
  • Thick coaxial cable

2. Twisted pair cable : इस केबल में दो कॉपर वायर आपस में ट्विस्ट फॉर्म में जुड़े रहते हैं, अर्थात आपस में एक दूसरे पर लपटे हुए। Twisted form में होने के कारण नॉइस का सीधा प्रभाव इस पर नही पड़ता है। यह एक सस्ती केबल है। Twisted pair cable के भी दो प्रकार होते है जो निम्न है –

  • UTP – Unshielded Twisted Pair
  • STP – Shielded Twisted Pair

3. Fiber optic cable : फाइबर ऑप्टिक केबल में भी एक सेंट्रल कोर होता है जो कांच या ग्लास का बना होता है। फाइबर ऑप्टिक केबल में डाटा लाइट के फार्म में ट्रांसमिट होता है। इस केबल की बैंडविथ बाकी अन्य केबल्स से अधिक होती है, और यह महंगी केबल है। इसके भी दो प्रकार होते है जो निम्न है –

  • Single mode fiber optic cable
  • Multimode fiber optic cable

Topology in Ethernet in hindi

Ethernet technology में निम्न प्रकार की topologies का उपयोग किया जाता है –

1. Bus topology : बस टोपोलॉजी में एक कॉमन coaxial cable होती है, जिससे नेटवर्क में जुड़े सभी कम्प्यूटर्स जुड़े रहते हैं। इस कॉमन coaxial cable की बैंडविथ बहुत ही हाई होती है। बस टोपोलॉजी में नए नोड्स को जोड़ना तथा खराब या काम न कर रहे नोड्स को आसानी से निकाला जा सकता है। यह एक सस्ती टोपोलॉजी है, क्योंकि इसमें केबल्स की कम आवश्यकता होती है।

2. Star topology : स्टार टोपोलॉजी में एक सेंट्रल नेटवर्क डिवाइस होता है, जिसे hub कहते हैं। यह एक pure hardware network device होता है। इसमें कई पोर्ट्स होते है, जिनमें कंप्यूटर को जोड़ा जाता है। जो OSI मॉडल की फिजिकल लेयर पर काम करता है। यह भी एक सस्ती टोपोलॉजी है, परंतु hub नेटवर्क डिवाइस के खराब हो जाने से पूरा नेटवर्क ही खत्म हो जाता है।

3. Ring topology : रिंग टोपोलॉजी में भी एक कॉमन coaxial cable होती है, जिससे नेटवर्क में जुड़े सभी कंप्यूटर जुड़े रहते हैं। यह टोपोलॉजी एक गोलाकार (रिंग के) फॉर्म में होती है। इस कॉमन coaxial cable की बैंडविथ बहुत ही हाई होती है। रिंग टोपोलॉजी में नए नोड्स को जोड़ना तथा खराब या काम न कर रहे नोड्स को आसानी से निकाला जा सकता है। यह एक सस्ती टोपोलॉजी है, क्योंकि इसमें केबल्स की कम आवश्यकता होती है।

4. Mesh topology : Mesh topology बाकी अन्य टोपोलॉजी से अच्छी तथा बेहतर होती है, क्योंकि इसमें नेटवर्क में जुड़े सभी नोड्स आपस में एक दूसरे से कनेक्ट रहते हैं। इस टोपोलॉजी में प्राइवेट या पर्सनल डाटा को शेयर किया जा सकता है। परंतु कंप्यूटर आपस में जुड़े होने के कारण केबल्स की अधिक आवश्यकता होती है जिससे mesh topology की कॉस्ट बढ़ जाती है।

Topology in Ethernet in hindi

difference between internet and ethernet in hindi

Internet तथा Ethernet में अंतर तालिका के माध्यम से निम्न है –

Internet Ethernet
इंटरनेट में wireless transmission का उपयोग किया जाता है।इथरनेट में wired transmission का उपयोग किया जाता है।
इंटरनेट का इस्तेमाल लोकल एरिया नेटवर्क, मेट्रोपोलिटन एरिया नेटवर्क तथा वाइड एरिया नेटवर्क में किया जाता है।इथरनेट का इस्तेमाल केवल लोकल एरिया नेटवर्क के लिए किया जाता है।
इंटरनेट में डाटा की सिक्योरिटी कम होती है।इथरनेट में डाटा की सिक्योरिटी अधिक होती है।
इंटरनेट का data transmission rate low होता है।इथरनेट का data transmission rate high होता है।
इंटरनेट में एरर आने की संभावना अधिक होती है।इथरनेट में एरर आने की संभावना कम होती है।

difference between fast ethernet and gigabit ethernet in hindi

fast ethernet तथा gigabit ethernet में अंतर तालिका के माध्यम से निम्न है –

fast ethernetgigabit ethernet
फास्ट इथरनेट को सन 1995 में introduce किया गया था।Gigabit Ethernet को सन 1999 में introduce किया गया था।
यह कम एरिया को कवर करता है।यह अधिक एरिया को कवर करता है।
इसे 10 base T की कमियों को दूर करने के लिए बनाया गया है।इसे 100 base T की कमियों को दूर करने के लिए बनाया गया है।
फास्ट इथरनेट की स्पीड 100 Mbps होती है।Gigabit Ethernet की स्पीड 10 Gbps होती है।
इसकी स्पीड कम होने के कारण डाटा ट्रांसमिट करके में देरी (delay) होती है।इसकी स्पीड अधिक होने के कारण डाटा ट्रांसमिट करके में देरी (delay) नहीं होती है।
Example – 100 base T, 100 base 5Example – 1000 base T, 1000 base lx

FAQ – Ethernet in computer networks in hindi

इथरनेट केबल क्या है?

Ethernet cable को IEEE standard 802.3 के नाम से भी जाना जाता है। इथरनेट केबल की मदद से दो या दो से अधिक कंप्यूटर डाटा को शेयर कर सकते हैं। Ethernet cable का मुख्य रूप से उपयोग local area network को बनाने में किया जाता है।

Ethernet cable का latest version कौन सा है?

Ethernet cable का latest version CAT 8 है, जिसे सन 2016 या सन 2017 के बीच लॉन्च किया गया है। CAT 8 की स्पीड लगभग 40 Gbps है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *