hinditoper.com

hinditoper.com
गिल्लू पाठ का प्रश्न उत्तर

गिल्लू | gillu mahadevi verma|गिल्लू पाठ का प्रश्न उत्तर

गिल्लू पाठ की कवित्री महादेवी वर्मा है गिल्लू एक छोटी गिलहरी का वर्णन है गिल्लू पाठ का प्रश्न उत्तर तथा गिल्लू पाठ का सारांश और महादेवी वर्मा का जीवन परिचय इस लेख में दिया गया है।

gillu पाठ का परिचय

गिल्लू एक छोटी गिलहरी का वर्णन है, जो गलती से कवयित्री महादेवी वर्मा के बरामदे (आंगन) के फूलदान के पास एक घोंसले से गिर गई थी। वह घायल गिलहरी को देखने के लिए इतनी प्रेरित हुई कि उन्होंने तुरन्त उसे उठा लिया और उसे बचाने के लिए हरसम्भव देखभाल प्रदान की। यह पीड़ित व्यक्ति के लिए उसकी उदारता और करुणा को दर्शाता है, जैसा कि इस रूप की घटना से स्पष्ट है।

महादेवी वर्मा जी का परिचय

महादेवी वर्मा का जन्म 26 मार्च 1907 को उत्तर प्रदेश के फर्रूखाबाद में हुआ था। इनकी माता का नाम हेमरानी देवी तथा पिता का नाम गोविन्द प्रसाद वर्मा था। इनके पिता भागलपुर के एक कॉलेज में प्रधानाचार्य के पद पर कार्यरत थे।

महादेवी वर्मा का विवाह 11 वर्ष की आयु में डॉ. स्वरूपनारायण वर्मा से हो गया था। महादेवी वर्मा का जीवन असीमित आकांक्षाओं और महान आशाओं को प्रतिफलित करने वाला था। इसलिये उन्होंने अपना जीवन साहित्य सेवा में समर्पित कर दिया। उनकी प्रारम्भिक शिक्षा इन्दौर में हुई। इसके पश्चात् प्रयाग विश्वविद्यालय से संस्कृत में एम. ए. किया। महादेवी वर्मा ने प्रयाग महिला विद्यापीठ की स्थापना की तथा वे इसकी प्रधानाचार्य के पद पर नियुक्त हुई। उनका देहान्त 11 सितम्बर 1987 को प्रयागराज में हुआ।

महादेवी वर्मा जी की प्रमुख रचनाएं

1. काव्य संग्रह – सप्तपर्णा, हिमालय, यामा, संध्या गीत, दीपशिखा, नीहार, रश्मि।

2. गद्य साहित्य – मेरा परिवार, क्षणदा, परिक्रमा, अतीत के चलचित्र, स्मृति की रेखाएँ, पथ के साथी।

3. निबन्ध – साहित्यकार की आस्था, श्रंखला की कड़ियाँ, विवेचनात्मक गद्य ।

गिल्लू पाठ का प्रश्न उत्तर

1. महादेवी वर्मा जी का जन्म कहां हुआ?

फर्रुखाबाद में

2. महादेवी वर्मा जी को भारत सरकार द्वारा कौनसा सम्मान प्राप्त हुआ?

पद्मभूषण

3. महादेवी वर्मा की भाषा संस्कृतनिष्ठ ………… है?

खड़ी बोली

4. यामा काव्य संग्रह किसका है?

महादेवी वर्मा जी

5. महादेवी वर्मा जी का जन्म कब हुआ?

26 मार्च 1907 को

6. महादेवी वर्मा के पिता का नाम क्या था?

गोविंदप्रसाद वर्मा

7. महादेवी वर्मा की माता का नाम क्या था?

हेमरानी देवी

8. महादेवी वर्मा का विवाह किस आयु में हुआ?

11 वर्ष में

9. महादेवी वर्मा का विवाह किसके साथ हुआ?

डॉ. स्वरूपनारायण वर्मा

10. महादेवी वर्मा जी का देहांत कब हुआ?

11 सितंबर 1987

11. महादेवी वर्मा को पद्मभूषण पुरुस्कार कब मिला?

सन् 1956

12. महादेवी वर्मा को ज्ञानपीठ पुरस्कार किस रचना के लिए मिला?

यामा

13. Gillu पाठ की विधा क्या है?

रेखाचित्र

14. गिल्लू रेखाचित्र की लेखक कौन है?

महादेवी वर्मा

15. Gillu रेखाचित्र का मुख्य पात्र कौन है?

गिलहरी का बच्चा

16. गिलहरी के बच्चे को gillu नाम किसने दिया?

महादेवी वर्मा

17. gillu रेखाचित्र में महादेवी वर्मा ने कौए को क्या उपमा दी है?

कागभूशुंडी

18. gillu रेखाचित्र के अनुसार हमारे प्रियजनों के आने का संदेश कौन देता है?

कौआ

19. गिल्लू के घाव पर महादेवी वर्मा ने क्या लगाया?

पेनिसिलिन का मरहम

20. गिल्लू की आंखे कैसी थी?

नीले कांच के मोतियों जैसी

21. महादेवी वर्मा ने गिल्लू को किसमे रखा?

फूल रखने की डालियां में

22. फूल की डालियां में क्या रखी गई?

रूई

23. फूल की डालियां में gillu को बैठकर कहां लटकाया गया?

खिड़की पर

24. गिल्लू को पकड़कर लेखिका gillu को कहां रखती?

लिफाफे में

25. लेखिका गिल्लू को खाने के लिए क्या देती थी?

काजू और बिस्कुट

26. गिल्लू दिनभर क्या करता?

गिहारियों के झुंड का नेता बना फिरता और हर डाल पर उछलता कूदता

27. लेखिका की थाली में खाना कौन खाता?

गिल्लू

28. gillu का प्रिय खाद्य पदार्थ क्या था?

काजू

29. लेखिका की अस्वस्थता में gillu की किसकी भूमिका निभाता था?

परिचायिका की

30. गिल्लू ने गर्मी से बचने के लिए क्या उपाय खोजा?

सुराही पर लेट जाता

31. गिलहरियों की जीवन की अवधि कितने वर्ष होती है?

2 वर्ष

32. Gillu की समाधि कहां बनाई गई?

सोनजुही की लता के नीचे

33. गिल्लू किसका नाम था?

गिलहरी के बच्चे का

34. अपवाद शब्द का विलोम शब्द क्या है?

साधारण

35. अपनी आखिरी रात को gillu अपने झूले से कहा आ गया?

महादेवी वर्मा के बिस्तर में

36. मृत्यु के उपरांत गिल्लू को कहा दफनाया गया?

सोनजुही की जड़ की मिट्टी में

37. महादेवी वर्मा ने काकभुशंडी शब्द का प्रयोग किस पक्षी के लिए किया है?

कोए के लिए

38. पितृ पक्ष में हमारे पूर्वज किस रूप में आते है?

कोए के रूप में

39. गिल्लू को किसने घायल कर दिया था?

दो कौओं ने

40. गिल्लू की जान कैसे बची?

महादेवी वर्मा की सेवा और प्रेम से

41. सोनजुही की कली किस रंग की थी?

पीले रंग की

42. महादेवी वर्मा के अनुसार हमारे पूर्वज किस रूप में नहीं आ सकते?

गरुड़, मयूर और हंस के रूप में

43. फूलों की डालियां में gillu कब तक रहा?

दो वर्ष तक

44. भूख लगने पर गिल्लू क्या करता?

चिक चिक की आवाज करता

45. महादेवी वर्मा ने gillu के अलावा और किसे पाल रखा था?

कुत्ते और बिल्ली को

46. गिल्लू ने आखिरी सांस कहा ली?

महादेवी वर्मा के बिस्तर में

47. सोनजुही की लता के नीचे gillu को क्यों दफनाया गया?

क्योंकि वह महादेवी वर्मा के सामने रह सके

48.लघुगात शब्द का क्या अर्थ है?

छोटे शरीर

49. महादेवी वर्मा जी की किस रचना में गिल्लू संकलित है?

मेरा परिवार

50. महादेवी वर्मा के कुत्ते का नाम क्या था?

बसंत

51. महादेवी वर्मा जी की बिल्ली का नाम क्या था?

गाैधुली

52. महादेवी वर्मा ने सोना नाम किसका रखा था?

उनके पास जो हिरनी थी उसका

गिल्लू पाठ का सारांश

गिल्लू एक शिशु गिलहरी की सत्य कथा है। एक दिन प्रातः काल में कवयित्री जब अपने कमरे से बाहर आई तो उन्होंने देखा कि दो कौए परस्पर मनोरंजनपूर्ण क्रीड़ा द्वारा अपनी चोंच से बरामदे में रखे फूल के गमलों पर तीक्ष्ण प्रहार कर रहे थे।

शीघ्र ही उन्होंने एक छोटे शिशु गिलहरी को वहाँ पर दो जख्मों से पीड़ित तथा फूल के गमले से कसकर चिपके हुए देखे। उन्होंने आसानी से यह जान लिया कि वह छोटा शिशु गिलहरी अपने घोंसले से गिर पड़ा होगा तथा इन कौओं ने उसे आहत किया होगा। उसे अपने हाथों में उठाकर उन्होंने उसके खून को धोया तथा पेसिलिन मलहम उस स्थान पर लगा दिया।

वह उनसे (कवयित्री) काफी हिल-मिल गया। जब वह कुछ लिखने के लिए बैठती थी तो वह अपने नटखट कार्यों द्वारा उनका ध्यान अपनी ओर आकर्षित करता था। कभी- कभी कवयित्री मजाक से उसके छोटे शरीर को बड़े लिफाफे में बन्द कर देती थीं।

उसका खाना माँगने का एक मनोरंजक ढंग था। चिक-चिक की मीठी रट लगातार लगाकर वह इसका संकेत देता था। तब वे उसे विस्कुट तथा काजू खाने को देती थी। गिल्लू कभी-कभी खिड़की के बाहर के दृश्यों को आतुरतापूर्ण निहारता था। यह देखकर उन्होंने उसे स्वच्छन्द विचरने देने का विचार किया। उन्होंने उसके फूल की टोकरी वाले घोंसले के एक कोने में निकलने का स्थान बनवा दिया।

अब गिल्लू अत्यन्त प्रसन्नचित्त था तथा अपने को स्वतंत्र अनुभव करता था । जव वे कॉलेज से लौटती थीं, गिल्लू तेजी से उनके पास दौड़कर आता था तथा उनकी शरीर के ऊपर-नीचे दौड़ने लगता था। वह पूरा दिन घर से बाहर अन्य गिलहरी – मित्रों के साथ बिताता था।

कवयित्री के यहाँ अन्य पालतू पशु एवं पक्षी भी थे तथा वे उन सभी के साथ स्नेहपूर्ण व्यवहार करती थी, किन्तु गिल्लू ही केवल उनकी प्लेट में खाने का साहस करता था। वह अन्य पालतू पशुओं तथा पक्षियों से भिन्न, एक अपवाद था। उसका प्रिय भोजन काजू था। जब कुछ दिनों तक काजू नहीं रहने के कारण उसे खाने को नहीं दिया जा सका तो भोजन के अन्य सामान दिए जाने पर उसने लेने से इन्कार किया तथा अपने घोंसले से उन्हें फेंककर अपनी नाराजगी व्यक्त कर दी।

एक बार कवयित्री एक कार दुर्घटना में घायल होकर अस्पताल में भर्ती हो गईं। इस बीच जब कभी अन्य व्यक्ति आकर उनका कमरा खोलते थे तो गिल्लू फूर्ति के साथ अपने घोसले से निकलकर वहाँ पहुँच जाता था, किन्तु उनके बदले दूसरे व्यक्ति को देखकर उसी तेज गति में वापस लौट जाता था। जब कवयित्री अस्पताल से घर वापस आई तो उन्होंने उसके घोंसले को काजू से भरा हुआ पाया, जो उनके प्रति उसके अगाध प्रेम को प्रदर्शित करता है।

उनकी अनुपस्थिति में उसकी भूख तथा अन्य इच्छाएँ गायब थीं। अनेक बार जब कवयित्री बीमार पड़ी, वह उनके सिर के निकट आकर उनके माथा तथा बालों पर अपने नन्हें शरीर से मालिश करने लगता था। उसकी यह निष्ठा एवं श्रद्धापूर्ण सेवा उन्हें (कवयित्री) भी शीतलता एवं शान्ति प्रदान करती थी। उस समय उसका उनके पास से हटना उन्हें ऐसा प्रतीत होता था। जैसे कोई नर्स या सेवक वहाँ से चला गया हो।

रात्रि में वह कवयित्री के विस्तर के निकट आया। उसने अपने ठण्डे पंजों से उनकी अंगुलियों को स्पर्श किया। कवयित्री ने अपने बिजली के हीटर द्वारा उसके बर्फ के समान ठण्डे होते शरीर को गर्म करना चाहा, किन्तु वे उसकी जीवन-रक्षा के प्रयास में असफल रहीं। प्रातः काल की पहली किरण के साथ वह इस संसार से चल बसा। उसका फूलों की टोकरी वाला घोंसला वीरान हो गया तथा वहाँ से उसे हटा दिया गया। गिल्लू को संजूही लता की झाड़ियों के नीचे दफना दिया गया। इसके दो कारण थे एक, गिल्लू उसे बहुत पसंद करता था, दूसरा कवयित्री को इससे हार्दिक संतोष हुआ।

गिल्लू रेखाचित्र के FAQS

गिल्लू कौन था?

gillu एक नन्ही गिलहरी थी। वह महान लेखिका महादेवी वर्मा जी के साथ रहती थी। गिल्लू का प्रिय भोजन काजू था।

गिल्लू का घर किस प्रकार बनाया गया?

लेखिका ने फूलों की एक हल्की डालिया में रुई बिछाकर उसमें gillu का घर बनाया। लेखिका ने उस डालिया को अपने कमरे की खिड़की में टांग दिया।

महादेवी वर्मा जी किस युग की लेखिका है?

महादेवी वर्मा जी शुक्लोत्तर युग की लेखिका है।

गिलहरियों के जीवन की अवधि कितने वर्ष की होती है?

गिलहरियों के जीवन की अवधि 2 वर्ष की होती है।

2 thoughts on “गिल्लू | gillu mahadevi verma|गिल्लू पाठ का प्रश्न उत्तर”

  1. Pingback: जागो फिर एक बार कविता | Jago fir ek bar kavita ka saransh

  2. Pingback: The Bangle Sellers / The Bangle Sellers summary

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *