hinditoper.com

hinditoper.com
message switching in computer networks

message switching in hindi | मैसेज स्विचिंग | difference between message switching and packet switching

hinditoper.com द्वारा लिखे गए message switching in computer networks (मैसेज स्विचिंग) के इस लेख में message switching किसे कहते हैं? (message switching in hindi) तथा कंप्यूटर नेटवर्क में मैसेज स्विचिंग की विशेषताएं (characteristics of message switching), difference between message switching and packet switching in computer networks साथ ही कुछ FAQ दिए गए हैं –

message switching in computer networks-मैसेज स्विचिंग

मैसेज स्विचिंग बाकी अन्य स्विचिंग तकनीक से भिन्न है। मैसेज स्विचिंग, सर्किट स्विचिंग की तुलना में बेहतर तथा पैकेट स्विचिंग की तुलना में कम बेहतर है। अर्थात कहा जा सकता है कि मैसेज स्विचिंग का updated version (modified version) पैकेट स्विचिंग है।

Path में लगे यह नोड्स कुछ भी हो सकते है, जैसे कोई से भी नेटवर्क डिवाइसेज (Hub, Gateway, Repeaters etc.) या कंप्यूटर। मैसेज स्विचिंग में डाटा छोटे-छोटे भागों (packet) में विभाजित ना होकर एक सिंगल मैसेज में ही सोर्स से डेस्टिनेशन नोड तक पहुंचता है।

मैसेज स्विचिंग में प्रत्येक नोड द्वारा स्टोर एंड फॉरवार्ड तकनीक का उपयोग कर यह सुनिश्चित किया जाता है कि डाटा को किस short path से भेजा जाए। जिससे डाटा समय पर तथा सुरक्षित तरीके से डेस्टिनेशन तक पहुंच सके।

message switching in computer networks

characteristics of message switching in computer networks

कंप्यूटर नेटवर्क में मैसेज स्विचिंग की विशेषताएं (characteristics of message switching) निम्नलिखित है –

1. मैसेज स्विचिंग store and forward तकनीक का उपयोग करती है।

2. मैसेज स्विचिंग में source node से डाटा आगे वाले नोड की ओर ट्रांसमिट होता है और यह क्रम इसी प्रकार चलता रहता है। अंत में डाटा डेस्टिनेशन नोड तक पहुंच जाता है।

3. नोड द्वारा डाटा को अपने बफर में स्टोर कर उस समय यह निश्चित किया जाता है कि मैसेज (डाटा) को आगे की ओर ट्रांसफर करने के लिए कौनसे path से जल्दी पहुंचा जा सकता है।

difference between message switching and packet switching

मैसेज स्विचिंग में तथा पैकेट स्विचिंग में मुख्य अंतर (difference between message switching in hindi and packet switching) तालिका के माध्यम से निम्नलिखित है –

message switchingpacket switching
मैसेज स्विचिंग तकनीक, सर्किट स्विचिंग तकनीक से एडवांस स्विचिंग तकनीक है।पैकेट स्विचिंग तकनीक, मैसेज स्विचिंग तकनीक से एडवांस स्विचिंग तकनीक है।
मैसेज स्विचिंग में डाटा एक बारी में ही ट्रांसमिट होता है। अर्थात छोटे छोटे भागों में विभाजित नहीं होता है।पैकेट स्विचिंग में डाटा पहले छोटे छोटे भागों में विभाजित होता है फिर आगे की ओर ट्रांसमिट में होता है।
मैसेज स्विचिंग का अन्य कोई प्रकार नहीं होते हैं।पैकेट स्विचिंग के मुख्य रूप से दो प्रकार होते हैं – डाटा ग्राम पैकेट स्विचिंग तथा वर्चुअल सर्किट पैकेट स्विचिंग।
मैसेज स्विचिंग का उदाहरण – emailपैकेट स्विचिंग का उदाहरण – internet

FAQ – message switching in computer networks

मैसेज स्विचिंग (message switching) किसे कहते हैं

मैसेज स्विचिंग में डाटा को जब ट्रांसमिट किया जाता है तब वह डायरेक्ट डेस्टिनेशन node तक ना पहुंच कर path में लगे प्रत्येक नोड से होकर जाता है। यह प्रत्येक नोड स्टोर और फॉरवर्ड तकनीक का उपयोग करता है। वर्तमान समय में मैसेज स्विचिंग का उपयोग कम हो गया है।

मैसेज स्विचिंग की प्रमुख विशेषता क्या है?

मैसेज स्विचिंग में data hop to hop ट्रांसमिट किया जाता है। अर्थात मैसेज स्विचिंग में source node से डाटा आगे वाले नोड की ओर ट्रांसमिट होता है और यह क्रम इसी प्रकार चलता रहता है। अंत में डाटा डेस्टिनेशन नोड तक पहुंच जाता है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *