hinditoper.com

hinditoper.com
network architecture in computer network in hindi

network architecture in computer network in hindi | client server and peer to peer network architecture

hinditoper.com द्वारा लिखे network architecture in computer network के इस लेख में नेटवर्क आर्किटेक्चर किसे कहते हैं? दिया गया है तथा नेटवर्क आर्किटेक्चर के प्रकार, advantages and disadvantages of client server and peer to peer network architecture (लाभ तथा हानि) दिए गए हैं जो निम्न है –

network architecture in computer network in hindi

network architecture in computer network – Network architecture एक प्रकार का लेआउट होता है अर्थात एक logical view होता है, जिससे यह सुनिश्चित होता है कि कंप्यूटर को आपस में किस प्रकार सु व्यवस्थित ढंग से कनेक्ट किया जाए जिससे कि नेटवर्क में जुड़े सभी कंप्यूटर को सही तरीके से जोड़ा जाए और इनका उचित प्रकार से तथा ज्यादा से ज्यादा उपयोग किया जा सके।

हम यह उदाहरण लेकर भी समझ सकते है कि जिस प्रकार किसी भी काम को जब करना होता है तो पहले उसकी रूपरेखा तैयार की जाती है अर्थात उस कार्य को लेकर प्लानिंग की जाती है फिर उस प्लानिंग या रूपरेखा को ध्यान में रख कर ही उस कार्य को पूर्ण किया जाता है जिससे यह कार्य आसानी से और सही तरीके से पूर्ण हो जाता है।

जब हम घर बनाते है तो सबसे पहले हम हमारा बजट fix करते हैं। फिर उसके बाद हम घर को किस तरह से डिजाइन करना है उसका नक्शा बनवाते है कि हमको एक सीमित क्षेत्र में कौन कौन सी सुविधा चाहिए और उस क्षेत्र का सही से उपयोग हो सके जिससे हमें बाद में कोई तकलीफ न हो।

ठीक इसी प्रकार भी network architecture होता है जो कंप्यूटर नेटवर्क बनाते समय एक रूपरेखा जैसे कार्य करता है। यह network architecture जरूरी होता है, क्योंकि नेटवर्क में जुड़े सभी कम्प्यूटर्स को उचित ढंग से जोड़ना तथा प्रत्येक का अपना अपना काम करना होता है। जिससे प्रत्येक नोड्स से अधिक से अधिक लाभ लिया जा सके।

types of network architecture in computer network

यह network architecture in computer network के मुख्य रूप से दो प्रकार होते हैं जो निम्न है –

  • Peer to peer network architecture
  • Client server network architecture

peer to peer network architecture in computer network

peer to peer network architecture – peer to peer network architecture में नेटवर्क में जुड़े सभी कम्प्यूटर्स आपस में एक दूसरे से डायरेक्ट कनेक्ट रहते है। जिसकी मदद से यह कम्प्यूटर्स डायरेक्ट ही अन्य कंप्यूटर से कम्युनिकेट कर सकते है।

Peer to peer network architecture में एक कंप्यूटर node के पास एक से अधिक path होते हैं डाटा को शेयर या रिसीव करने के लिए। जिससे यह फायदा होता है की इसमें यदि कोई एक path खराब हो जाता है या काम नही करता है तो उसकी जगह दूसरे path से डाटा को ट्रांसफर किया जा सकता है।

Peer to peer network architecture में कोई सर्वर नही होता है। यह network architecture बिना सर्वर के बनाया जाता है। Peer to peer network architecture को point to point network architecture के नाम से भी जाना जाता है। Peer to peer network architecture में केबल्स की संख्या अधिक लगती है, क्योंकि नेटवर्क में जुड़े सभी नोड्स डायरेक्टली अन्य कंप्यूटर से जुड़े होते है।

network architecture in computer network in hindi

advantages and disadvantages of peer to peer network architecture

peer to peer network architecture की लाभ तथा हानि दिए गए हैं जो निम्न है –

advantages of peer to peer network architecture-

1. Peer to peer network architecture में यदि कोई कंप्यूटर खराब हो जाता है या कोई कंप्यूटर काम करना बंद कर देता है तो उसके काम न करने से नेटवर्क पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता है, यह नेटवर्क पहले की तरह की कार्य करता है।

2. Peer to peer network architecture में प्रत्येक नोड के पास अपना एक पर्सनल path होता है।

3. Peer to peer network architecture एक सस्ता network architecture होता है क्योंकि इस नेटवर्क आर्किटेक्चर में कोई सर्वर नही होता है।

4. Peer to peer network architecture में एक समय पर कंप्यूटर डाटा को सेंड भी कर सकता और उसी समय अन्य दूसरे को कंप्यूटर से डाटा को रिसीव भी कर सकता है।

disadvantages of peer to peer network architecture-

1. Peer to peer network architecture में नए नोड्स को जोड़ना थोड़ा मुश्किल होता है क्योंकि सभी नोड्स आपस में एक दूसरे से डायरेक्टली जुड़े रहते है।

2. Peer to peer network architecture में backup and recovery की सुविधा नहीं होती है। क्योंकि इसमें कोई सर्वर नही होता है, जो इसकी महत्वपूर्ण हानि है।

3. Peer to peer network architecture में केबल्स की संख्या अधिक लगती है। जो इस नेटवर्क आर्किटेक्चर को कॉम्प्लेक्स बनाता है।

4. Peer to peer network architecture में नोड्स को मेंटेन करना थोड़ा मुश्किल होता है।

client server network architecture in computer network

client server network architecture – client server network architecture के नाम से ही स्पष्ट होता है की इसमें क्लाइंट और सर्वर होंगा। जहां क्लाइंट request करता है और सर्वर क्लाइंट द्वारा की गई रिक्वेस्ट का रिस्पॉन्स देता है। इसीलिए इसे request response network architecture भी कहा जाता है।

क्लाइंट सर्वर से किसी भी डाटा को एक्सेस करने की रिक्वेस्ट करता है और सर्वर क्लाइंट के द्वारा मांगे गए डाटा को अपने अंदर स्टोर किए गए लार्ज अमाउंट डाटा में से देखकर उसे क्लाइंट को देता है। Client to server network architecture में एक सर्वर से बाकी अन्य सभी नोड्स जुड़े रहते है जिसकी मदद से नेटवर्क की स्पीड भी तेज होती है और सर्वर होने के कारण सिक्योरिटी भी बनी रहती है।

इस नेटवर्क आर्किटेक्चर में ज्यादा से ज्यादा कंप्यूटर को आपस ने कनेक्ट किया जा सकता है।

network architecture in computer network in hindi

advantages and disadvantages of client server network architecture

client server network architecture की लाभ तथा हानि दिए गए हैं जो निम्न है –

advantages of client server network architecture-

1. सर्वर होने के कारण इस नेटवर्क में कंप्यूटर के काम करने की स्पीड भी हाई होती है।

2. Client server network architecture में सर्वर होने के कारण इसमें बैकअप और रिकवरी जैसी सुविधा होती है जो एक महत्वपूर्ण विशेषता है।

3. Client server network architecture में सिक्योरिटी बनी रहती है।

disadvantages of client server network architecture-

1. Client server network architecture की सबसे बड़ी हानि यह है कि यदि किसी कारण वश सर्वर ही काम करना बंद कर दे या धीमी गति से काम करे तो इसका प्रभाव पूरे नेटवर्क पर पड़ता है।

2. क्लाइंट सर्वर नेटवर्क आर्किटेक्चर को मेंटेन करना थोड़ा मुश्किल होता है। इसको मेंटेन करने के लिए एक अनुभवी व्यक्ति की जरूरत पड़ती है जिसका खर्च अलग से लगता है। जिससे यह और अधिक महंगा नेटवर्क हो जाता है।

3. Client server network architecture में सर्वर होने के कारण इसकी कॉस्ट भी हाई होती है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *