hinditoper.com

hinditoper.com
packet switching in computer networks

packet switching in computer networks|difference between datagram and virtual circuit

packet switching in computer networks-हिंदी में

packet switching in computer networks in hindi- जैसा कि इसके नाम से ही पता लगता है कि packet switching में data का जो transmission होता है वो packet के रूप में होता है। अर्थात data को transfer करते समय उसे छोटे- छोटे भागों में तोड़ (बांट) दिया जाता है, जिसे packet कहते है।

अर्थात् packet switching in computer networks के मुख्य रूप से दो प्रकार होते है और यह दोनों अलग-अलग लेयर्स पर काम करती है – Datagram packet switching और Virtual circuit packet switching.

packet switching in computer networks

packet switching diagram

जहाँ datagram packet switching OSI model की network layer पर काम करती है, जबकि Virtual circuit packet switching OSI model की data link layer पर काम करती है।

Datagram packet switching का इस्तेमाल वर्तमान में अधिक किया जाता है और यह एक महत्वपूर्ण स्विचिंग तकनीक है।

पैकेट स्विन्चिंग OSI model की layers पर काम करती है तो इसमें एड्रेस का use करके data को receiver तक पहुंचाया जाता है। अर्थात packet switching in computer networks में MAC address और IP address का इस्तेमाल किया जाता है।

feachers of packet switching in computer networks-पैकेट स्विचिंग की विशेषताएं

पैकेट स्विचिंग की निम्न विशेषताएं है –

1. packet switching in computer networks में data packet को high speed के साथ transfer किया जा सकता है।

2. packet switching में लगे सभी switches pipelining के सिद्धांत पर काम करते है अर्थात् switches एक समय पर data packet को आगे की ओर transfer भी कर सकते है और उसी समय अन्य दूसरे packet को buffer में store भी कर सकते है।

3. packet switching in computer networks, addressing mode पर काम करती है। इसमें mac address तथा IP address होते है।

4. packet switching में data packets को अलग-अलग path से transmit किया जा सकता है।

difference between datagram and virtual circuit-डाटाग्राम,वर्चुअल सर्किट में अंतर

डाटाग्राम पैकेट स्विचिंग तथा वर्चुअल सर्किट पैकेट स्विचिंग में अंतर तालिका के माध्यम से निम्न रूप से दिया गया है –

Datagram packet switchingVirtual circuit packet switching
Datagram packet switching तकनीक OSI model की नेटवर्क लेयर पर काम करती है।Virtual circuit packet switching तकनीक OSI model की data link layer पर काम करती है।
डाटाग्राम पैकेट स्विचिंग में स्विचिंग के सभी path से डाटा पैकेट transfer होते हैं।Virtual circuit packet switching में स्विचिंग के एक निश्चित path से ही डाटा पैकेट ट्रांसफर होते है।
डाटाग्राम पैकेट स्विचिंग में डाटा पैकेट का over flow हो सकता है।Virtual circuit packet switching में डाटा पैकेट का over flow नही होता है।
डाटा ग्राम पैकेट स्विचिंग का उपयोग अधिक किया जाता है।वर्चुअल सर्किट पैकेट स्विचिंग का उपयोग सीमित रूप से किया जाता है।
डाटा ग्राम पैकेट स्विचिंग में रिसोर्सेज को on demand उपयोग किया जाता है।वर्चुअल सर्किट पैकेट स्विचिंग में रिसोर्सेज का रिजर्वेशन किया जाता है।

packet switching in computer networks in hindi FAQ

packet switching in computer networks में पैकेट स्विचिंग के कितने प्रकार होते हैं?

स्विचिंग की तकनीक में पैकेट स्विचिंग के मुख्य रूप से दो प्रकार होते हैं – 1. डाटाग्राम पैकेट स्विचिंग तथा 2. वर्चुअल सर्किट पैकेट स्विचिंग

पैकेट स्विचिंग की प्रमुख विशेषता क्या है?

packet switching in computer networks में data packet को high speed के साथ transfer किया जा सकता है।

पैकेट स्विचिंग को पैकेट स्विचिंग क्यों कहा जाता है?

data को transfer करते समय उसे छोटे- छोटे भागों में तोड़ (बांट) दिया जाता है, जिसे packet कहते है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *