hinditoper.com

hinditoper.com
TCP IP model in hindi

TCP IP model in hindi | difference between OSI model and TCP IP model in hindi

hinditoper.com द्वारा लिखे गए TCP IP model in hindi के इस लेख में TCP IP model क्या है?(TCP IP model in computer network in hindi) विस्तार से समझाया गया है। साथ ही साथ TCP IP model की सभी चार लेयर्स को भी बताया गया है और difference between OSI model and TCP IP model in hindi में अंतर भी दिए गए है, जो निम्न है –

TCP IP model in computer network in hindi

TCP IP model in hindi – जिस प्रकार मनुष्य आपस में कम्युनिकेट पढ़ने के लिए लैंग्वेज (भाषा) का इस्तेमाल करता है और अपने भावों को व्यक्त करता है, ठीक उसी प्रकार कंप्यूटर भी TCP IP का इस्तेमाल कर आपस में कम्युनिकेट करते हैं।

TCP IP का पूरा नाम (TCP IP full form) Transmission Control Protocol या Internet Protocol होता है। TCP IP एक set of rules अर्थात नियमों का एक समूह है जो कंप्यूटर्स को आपस में कम्युनिकेट करने के लिए permission (अनुमति ) देता है।

एक कंप्यूटर कई काम करने में सक्षम होता है, परंतु नेटवर्क में जुड़ने पर अन्य कंप्यूटर्स से जुड़कर यह अपनी शक्ति को और भी बढ़ा लेता हैं। नेटवर्क में जुड़े सभी कंप्यूटर आपस में कम्युनिकेट करने के लिए प्रोटोकॉल का उपयोग करते हैं। यहां प्रोटोकॉल कई नियमों का समूह होता है, इन नियमो को फॉलो कर के ही कंप्यूटर आपस में कम्युनिकेट कर सकते हैं।

TCP IP की मदद से इंटरनेट के द्वारा डाटा को आसानी से सुरक्षित ट्रांसफर किया जा सकता है, जब कंप्यूटर द्वारा इंटरनेट में डाटा पर किसी भी प्रकार का ऑपरेशन (डाउनलोड या अपलोड) करते हैं, तो TCP IP protocol इसे कंट्रोल करता है।

TCP IP की मदद से इंटरनेट में उपस्थित डाटा को secure रखा जाता है। तथा जब इंटरनेट के माध्यम से कंप्यूटर द्वारा डाटा को ट्रांसफर किया जाता है, तब TCP IP उसे सही डेस्टिनेशन कंप्यूटर तक पहुंचाने में मदद करता है।

TCP IP में TCP डाटा को छोटे-छोटे भागों (packet) में बांटता है फिर उसे अलग-अलग path में इंटरनेट के माध्यम से डेस्टिनेशन तक पहुंचाता है। और IP यहां सुनिश्चित करता है कि जो डाटा transmit करना है वह किस path से होकर सही node (computer) तक पहुंचेगा। इसके लिए वह IP एड्रेस को फॉलो करता है। प्रत्येक इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस का IP एड्रेस यूनिक होता है।

इंटरनेट से जुड़े किसी भी नेटवर्क का सबसे महत्वपूर्ण प्रोटोकॉल TCP IP ही होता है।

इसे TCP IP model भी कहा जाता है। जिसमें चार लेयर्स होती है, जब internet के माध्यम से TCP IP द्वारा छोटे – छोटे डाटा पैकेट को transmit किया जाता है, तो प्रत्येक लेयर का अपना अलग अलग कार्य होता है। TCP IP model की चार लेयर्स के नाम निम्न है –

  • Application layer (एप्लीकेशन लेयर)
  • Transport layer (ट्रांसपोर्ट लेयर)
  • Internet layer (इंटरनेट लेयर)
  • Network access layer (नेटवर्क एक्सेस लेयर)

TCP IP model in computer network in hindi

layers in TCP IP model in hindi

2. Transport layer (ट्रांसपोर्ट लेयर) in TCP IP model in computer network in hindi – यह layer डाटा के ट्रांसफर के लिए उत्तरदायी है। यह TCP IP model में दूसरी लेयर होती है। यहां लेयर नेटवर्क में उपस्थित कंप्यूटर्स के बीच कनेक्शन स्थापित करती है। यहां लेयर सुनिश्चित करती है कि जो डाटा ट्रांसमिट किया जा रहा है, वहां रिसीवर तक पहुंच जाए। इस लेयर में मुख्य रूप से दो प्रोटोकॉल काम करते हैं, TCP (Transmission Control Protocol), UDP (User Datagram Protocol).

  • TCP एक reliable protocol और कनेक्शन oriented होता है अर्थात इसमें डाटा ट्रांसफर से पहले कनेक्शन को स्थापित किया जाता है। TCP में डाटा का ट्रांसफर UDP की तुलना में कम स्पीड में ट्रांसफर होता है। TCP में डाटा पैकेट्स रिसीवर तक पहुंचने की गारंटी होती है। Example – email, web browsing.
  • UDP – UDP एक connectionless और unreliable protocol है। इसमें डाटा पैकेट ट्रांसमिशन के समय कोई कनेक्शन स्थापित नही होता है, तथा डाटा रिसीवर तक पहुंचने की कोई गारंटी भी नही होती है। परंतु TCP की तुलना में हाई स्पीड में डाटा ट्रांसफर करता है। उदाहरण – music streaming.

3. Internet layer (इंटरनेट लेयर) in TCP IP model in hindi – यह लेयर ट्रांसपोर्ट लेयर से डाटा पैकेट को लेकर उन्हें सोर्स IP एड्रेस और डेस्टिनेशन IP address देती है। जिसकी मदद से सही रिसीवर द्वारा डाटा को रिसीव किया जा सके। जिससे डाटा की हानि भी नही होती है और डाटा सही रिसीवर तक पहुंच भी जाता है। इसमें भी निम्न प्रोटोकॉल का उपयोग किया जाता है जैसे – IP (Internet Protocol), ARP (Address Resolution Protocol), ICMP (Internet Control Message Protocol) etc.

4. Network access layer (नेटवर्क एक्सेस लेयर) in TCP IP model in computer network in hindi – यह TCP IP model की सबसे लास्ट लेयर होती है। इस लेयर में नेटवर्क डिवाइसेज के द्वारा डाटा नेटवर्क में ट्रांसफर होता है। इसमें भी कई प्रोटोकॉल का उपयोग किया जाता है।

difference between OSI model and TCP IP model in hindi

TCP IP model में तथा OSI model में अंतर तालिका के माध्यम से निम्न है –

TCP IPOSI
TCP IP का पूरा नाम transmission control protocol होता है।OSI model का पूरा नाम open system interconnection होता है।
TCP IP model अधिक reliable होता है।OSI model कम reliable होता है।
TCP IP model horizontal approach को फॉलो करता है।OSI model vertical approach को फॉलो करता है।
TCP IP model में चार लेयर्स होती है। (Application layer, Transport layer, Internet layer, Network access layer)OSI model में सात लेयर्स होती है। (Application layer, Presentation layer, Session layer, Transport layer, Network layer, Datalink layer, Physical layer)

FAQ – TCP IP model in hindi

TCP IP model क्या है?

TCP IP का पूरा नाम (TCP IP full form) Transmission Control Protocol या Internet Protocol होता है। TCP IP एक set of rules अर्थात नियमों का एक समूह है जो कंप्यूटर्स को आपस में कम्युनिकेट करने के लिए permission (अनुमति ) देता है।

TCP IP model में कितनी लेयर्स होती है? नाम बताएं

TCP IP model में मुख्यतः चार लेयर्स होती है जिनके नाम Application layer, Transport layer, Internet layer, Network access layer है।

TCP IP model को कब विकसित किया गया था?

TCP IP model को सन 1970 से सन 1980 के बीच संयुक्त राज्य अमेरिका के रक्षा विभाग के द्वारा विकसित किया गया था।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *